content-cover-image

बच्चो से मनवानी है अपनी बात ? तो मारपीट और डांट के बजाय अपनाएं ये 'दिमागी तरीके'

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

बच्चो से मनवानी है अपनी बात ? तो मारपीट और डांट के बजाय अपनाएं ये 'दिमागी तरीके'

हर दिन चिल्लाना, डांट कर बच्चो से अपनी बात मनवाना , कुछ नया सीखने के लिए उनके साथ क्रूरता से पेश आना केवल एक मां की कहानी नहीं है बल्कि कई मां ऐसी परेशानियों का सामना रोज करती हैं. उन्हें कोई रास्ता नजर ही नहीं आता कि वे अपने बच्चों से कोई बात कैसे मनवाएं, वे क्या करें कि उनके बच्चे उनकी बात सुनने लगें. थकान, परेशानी और चिड़चिड़ाहट, झल्लाहट और निराशा वाला अनुभव कई मांओं को हर दिन झेलना पड़ता है. हम आपको बताते हैं कुछ सिम्पल टिप्स जिनसे आपका बच्चा आपकी सुनेगा और बातें आसानी से मानेगा . अगर आप चाहती हैं कि आपका बच्चा आपकी सुने तो सबसे पहले उनका अटेंशन पाने की कोशिश करिए. जब वे आप पर ध्यान देगा तभी आपकी बात समझ पायेगा. जब आप अपने बच्चे से कुछ कह रही हों तो बैकग्राउंड में किसी भी तरह का शोर नहीं होना चाहिए. और इसी तरह जब वे आपसे बात कर रहा हो तो आप जो काम कर रही हैं, उसे छोड़ दें और ध्यान से उसकी बात सुनें. ध्यान रखिये की आप एक समय पर एक ही निर्देश दें तभी वह आपकी हर बात को मानेगा. अगर आप एक ही बार में अपने बच्चों को कई सारे निर्देश देना चाहती हैं तो इंतजार करें कि वह पहले एक काम खत्म कर ले. नियम और उम्मीदें एक बच्चे से अपनी बात मनवाने के लिए बहुत जरूरी हैं. आप अपने बच्चों से बात करते वक्त उन्हें दृढ़ तरीके से बताएं कि आप उनसे क्या उम्मीद करती हैं.

Show more

content-cover-image
बच्चो से मनवानी है अपनी बात ? तो मारपीट और डांट के बजाय अपनाएं ये 'दिमागी तरीके' बॉलीवुड के किस्से