content-cover-image

इस गांव में पुरुष रखते हैं तीन पत्नियां, प्रथा के नाम पर होता है ये निंदनीय काम

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

इस गांव में पुरुष रखते हैं तीन पत्नियां, प्रथा के नाम पर होता है ये निंदनीय काम

भारतीय सभ्यता के अनुसार व्यक्ति की यदि एक शादी हो चुकी है तो वह दूसरी शादी नहीं कर सकता जब तक पहली पत्नी का देहांत न हो जाये या फिर वह उसे तलाक न दे दे। लेकिन मुंबई से 150 किमी. की दूरी पर देंगंमल गाँव में हर एक व्यक्ति तीन शादिया करता है वह भी अपनी पहली पत्नी को बिना तलाक दिए। आज भी इस गाँव के लोग एक प्रथा का सदियों से पालन करते आ रहे है। इस गाँव में हर व्यक्ति एक नहीं दो नहीं बल्कि तीन तीन शादिया करता है। स्थानीय लोंह्गो की मानें तो वह ऐसा इसलिए करते है ताकि घर को पर्याप्त पानी मुहैया हो सके। यहाँ पर कोई भी पुरुष अपनी पहली पत्नी को तलाक दिए बिना ही तीन शादिया करता है, और वह दोनों, तीनो पत्निया एक ही घर में आपस में मिलजुल कर रहती हैं। इस गाँव के पुरुष तर्क देते हुए कहते हैं की गर्मी के दिनों में यहाँ के कुएं सूख जाते हैं और पानी की तलाश में लोगों को मीलों दूर चलकर जाना पड़ता है। पानी दूर से लाने के कारण घर के अन्य कामो में कई तरह की बाधा आती है। परिवार का संतुलन बनाने के लिए पुरुष तीन बार शादी करते है। ताकि घर में जितने अधिक मेंबर रहेंगे उतना की अधिक पानी घर में आएगा। ये तर्क जितना आश्चर्य कर देने वाला है उतना ही बेमतलब भी है.

Show more
content-cover-image
इस गांव में पुरुष रखते हैं तीन पत्नियां, प्रथा के नाम पर होता है ये निंदनीय काम बॉलीवुड के किस्से