content-cover-image

37वीं पुण्यतिथि पर जानिए : एक्ट्रेस नहीं डॉक्टर बनना चाहती थीं नर्गिस

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

37वीं पुण्यतिथि पर जानिए : एक्ट्रेस नहीं डॉक्टर बनना चाहती थीं नर्गिस

आज इंडियन सिनेमा की वेटरन एक्ट्रेस नरगिस की डेथ एनिवर्सरी है। मेहबूब खान की एवरग्रीन फिल्म 'मदर इंडिया' नरगिस की यादगार फिल्मों में से एक हैं। इसी फिल्म की शूटिंग के दौरान नरगिस के को-स्टार रहे सुनील दत्त ने उन्हें आग से बचाया। इस हादसे के बाद सुनील और नरगिस की नजदीकियां बढ़ी जिसके बाद 11 मार्च, 1958 को दोनों ने शादी कर ली। दिलचस्प, बात ये है कि इस फिल्म में सुनील ने उनके बेटे का किरदार निभाया था। नर्गिस के जीवन से जुड़े ऐसे कई दिलचस्प किस्से हैं. ये बात कम लोग ही जानते हैं कि हिंदी फिल्मो की मशहूर अदाकारा नर्गिस जिन्होंने लगभग चार दशक तक अपने अभिनय से दर्शको को चमत्कृत किया , वे बचपन के दिनों में अभिनेत्री नहीं डॉक्टर बनना चाहती थी. 1 जून, 1929 को कोलकाता में पैदा हुईं नरगिस का असली नाम फातिमा राशिद था। 1935 में उन्होंने सिर्फ पांच साल की उम्र में फिल्म ‘तलाश-ए-हक’ में काम किया। इसी फिल्म के साथ उनका नाम नरगिस हो गया। नरगिस इंडियन सिनेमा की ऐसी पहली एक्ट्रेस थी, जिन्हें ‘पद्मश्री’ से सम्मानित किया गया था। उन्हें समाज सेवा के लिए भी राज्यसभा का सदस्य मनोनीत किया गया था। नरगिस दत्त ने अपनी अदाकारी और खूबसूरती से एक खास मुकाम हासिल किया था. वो भले ही आज दुनिए में नहीं हैं लेकिन अभिनय के परदे पर उनकी छाप और उनके लाखो प्रशंसक आज भी मैजूद हैं.

Show more
content-cover-image
37वीं पुण्यतिथि पर जानिए : एक्ट्रेस नहीं डॉक्टर बनना चाहती थीं नर्गिस बॉलीवुड के किस्से