content-cover-image

क्या रमजान के पाक महीने से जुड़ी इन बातों को जानते हैं आप...

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

क्या रमजान के पाक महीने से जुड़ी इन बातों को जानते हैं आप...

रमजान के महीने में 30 दिन तक मुसलमान रोजे रखते हैं. ये महीना सब्र और गमख्वारी का महीना है. दुनिया भर में इस महीने में कुरान शरीफ सबसे ज्यादा पढ़ा जाता है. रमजान का मुबारक महीना नेक बनने की हिदायत देता है. वह सही रास्ते पर चलने की राह दिखाता है. रोजे के कड़े नियम ही एक इंसान को सच्चा बनाते हैं और अमीर और गरीब के फर्क को मिटाते हुए उसे ये समझाते हैं कि अल्लाह के घर में सब एक बराबर हैं. रमजान के पाक महीने में हर मुसलमान के लिए रोजे फर्ज हैं. रोजदार को सुबह सूरज उगने के बाद से सूरज छिपने तक कुछ भी खाने या पीने की इजाजत नहीं है. एक नजर रमजान से जुड़ी उन बातों पर जिनके बारे में शायद आपको पता ही न हो- रमजान में अल्लाह से अपने सभी बुरे कामों के लिए माफी मांगते हैं. माना जाता है कि खुदा रहमदिल होकर इन दुआओं को मानता है और लोगों को उनके बुरे कर्मों के लिए माफी भी देता है. रमजान में दुनिया भर के मुसलमान इस पाक महीने में गरीबों को दान देते हैं. मान्यता के अनुसार इस मुबारक महीने में खुदा अपने बंदों पर ध्यान फरमाता है. रमजान में जन्नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं, और दोजख के दरवाजे बंद कर दिए जाते हैं. मान्यता के अनुसार इस महीने में शरकश शयातीन जंजीरों में जकड़ दिए जाते हैं. मान्यता है कि रमजान के मुबारक महीने की हर रात नरक से एक लाख नरकीयों को आजाद किया जाता है. तो वहीं नरकीयों को आजाद करने की यह तादाद रमजान की आखरी रात को अब तक आजाद किए गए नरकीयों के बराबर होती है. पश्चिमी एशिया में रमजान के चौथे दिन को गारांगाओं के तौर पर मनाया जाता है. इस मौके पर बच्चे बेग्स लेकर गारांगाओं के गीत गाते हुए टॉफी वगैरह एकत्रित करते हैं.

Show more

content-cover-image
क्या रमजान के पाक महीने से जुड़ी इन बातों को जानते हैं आप...बॉलीवुड के किस्से