content-cover-image

सिख समाज का कोई भी व्यक्ति नहीं खाता तंबाकू ,आज विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर जानिये इसके पीछे की वजह

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

सिख समाज का कोई भी व्यक्ति नहीं खाता तंबाकू ,आज विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर जानिये इसके पीछे की वजह

याद करके देखिए या दिमाग पर जोर डालिए और सोचिये कि कभी आपने किसी सिख को तंबाकू खाते देखा है। सोचिये-सोचिये, शायद ही आपको कोई ऐसा सिख मिलेगा जो तंबाकू का सेवन करता होगा। दरअसल बात यह है कि सिख तंबाकू खाते ही नहीं हैं। सिख समाज के धर्म गुरु गोविंद सिंह ने एक ऐसी शिक्षा दी थी, जिसका लोग आज भी अनुसरण करते है। इस शिक्षा को दूसरे धर्मों के अन्य लोग भी मानते हैं। गुरु गोविंद सिंह ने एक बार तंबाकू के पौधों को नष्ट कर दिया था। इस पर एक शिष्य ने चौंकते हुए पूछा था, कि गुुरुजी आप ऐसा क्यों कर रहे हैं, उन्होंने बताया कि शराब से सिर्फ एक ही पीढ़ी को नुकसान होता है। जबकि तंबाकू से कई पीढिय़ां खत्म हो जाती हैं। यही वजह है कि आज भी सिख समाज का कोई भी व्यक्ति तंबाकू नहीं खाता है। गुरु गोविंद सिंह जी ने 1699 में खालसा पंथ की स्थापना की तब सिक्खों को बुरी चीजों से बचाने के लिए कुछ नियम बनाए। इनमें से तंबाकू नहीं खाना भी एक था। गुरु गोविंद सिंह जी की दूरदर्शी सोच के कारण आज सिख समाज के लोग काफी सेहतमंद है। इसके साथ ही वे कैंसर जैसी गंभीर बीमारियां से कई दूरी पर हैं।

Show more
content-cover-image
सिख समाज का कोई भी व्यक्ति नहीं खाता तंबाकू ,आज विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर जानिये इसके पीछे की वजहबॉलीवुड के किस्से