content-cover-image

जानिए कैसे तय होता है आपके पासपोर्ट का रंग

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

जानिए कैसे तय होता है आपके पासपोर्ट का रंग

यह बात सही है कि पासपोर्ट के बिना विदेश यात्रा संभव नहीं है। दरअसल, यह एक ऐसा दस्तावेज है जो आपको विदेश यात्रा के लिए वैधानिक रूप से मान्यता देता है। क्या आपने कभी ध्यान दिया है कि पासपोर्ट का रंग कैसे निर्धारित किया जाता है और हमारे देश में पासपोर्ट कितने रंगों के कवर में मिलता है..? दुनिया के हर देश को अपने यहां के पासपोर्ट का रंग चुनने के लिए पूरी स्वतंत्रता प्राप्त है। फिर भी कोई भी देश पासपोर्ट का रंग निर्धारित करते समय कुछ विशेष बातों का ध्यान जरूर रखता है। हालांकि इसके अलावा भी बहुत से ऐसे कारण होते हैं जो पासपोर्ट के रंग को प्रभावित करते हैं। दुनिया की अधिकतर इस्लामिक देश अपने पासपोर्ट का रंग हरा रखते हैं। क्योंकि हरे रंग का इस्लाम में विशेष महत्व है। वहीँ नीले रंग का पासपोर्ट दुनिया के अधिकतर गणतांत्रिक देशों में अपनाया गया है। कुछ देशों में जहां कम्यूनिस्ट सरकार है वहां के पासपोर्ट का रंग लाल या मैरून होता है। यह रंग उनके वैचारिक रंग से भी मेल खाता है। दुनिया के कई देशों में काले रंग का पासपोर्ट भी प्रचलित है। जिसमें अंगोला, कॉन्गो, मलावी, बोत्सवाना, जांबिया, बुरुंडी और न्यूजीलैंड शामिल हैं। इसी के साथ भारत में है तीन तरह के पासपोर्ट होते हैं, सामान्य पासपोर्ट , जो देश के आम लोगों के लिए जारी होता है और इसका रंग नीला होता है। डिप्लोमेटिक पासपोर्ट भारत के राजनयिकों को जारी होता है जो देश के प्रतिनिधि के रूप में संबंधित देश में रहकर देश की सेवा में काम करते हैं। और ऑफिशियल पासपोर्ट, जों सरकारी अधिकारियों को विदेश यात्रा के लिए जारी होता है और सफेद रंग का होता है। हालांकि यात्रा के आधिकारिक होने पर ही उन्हें इस रंग का पासपोर्ट जारी किया जाता है।

Show more

content-cover-image
जानिए कैसे तय होता है आपके पासपोर्ट का रंगबॉलीवुड के किस्से