content-cover-image

अकेलापन इन मरीजों के लिए है बेहद खतरनाक, मौत के खतरे को कर देता है दोगुना

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

अकेलापन इन मरीजों के लिए है बेहद खतरनाक, मौत के खतरे को कर देता है दोगुना

यूं तो अकेलापन सभी के लिए खराब होता है लेकिन दिल के मरीजों के लिए यह बेहद घातक है और उनमें मौत के खतरे को दोगुना करता है. हाल ही में हुए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि हृदय की बीमारी से जूझ रहे महिला और पुरूष दोनों में अकेले रहने की बजाए अकेलेपन का अहसास अधिक घातक होता है. एक अध्ययन में दावा किया गया है कि अवसाद समय से पहले मस्तिष्क को उम्रदराज बना देता है. अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि वैज्ञानिकों ने पूर्व में बताया था कि अवसाद या एंग्जाइटी से पीड़ित लोगों को उम्र बढ़ने के साथ साथ डिमेन्शिया होने का खतरा बढ़ता जाता है. उन्होंने कहा कि ‘‘ साइकोलॉजिकल मेडिसिन ’’ जर्नल में प्रकाशत यह अध्ययन संज्ञानात्मक कार्यकलापों में कमी पर अवसाद के प्रभाव के बारे में व्यापक प्रमाण पेश करता है.

Show more

content-cover-image
अकेलापन इन मरीजों के लिए है बेहद खतरनाक, मौत के खतरे को कर देता है दोगुनाबॉलीवुड के किस्से