content-cover-image

जानिए भैय्यू जी महाराज दूसरे आध्यात्मिक गुरुओं से कैसे अलग थे?

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

जानिए भैय्यू जी महाराज दूसरे आध्यात्मिक गुरुओं से कैसे अलग थे?

आध्यात्मिक और राजनीतिक गुरु भैय्यू जी महाराज ने बुधवार को गोली मारकर आत्महत्या कर ली. भैय्यू महाराज का सुसाइड नोट भी पुलिस ने बरामद किया है, उसके मुताबिक,भैय्यू जी पारिवारिक दिक्कतों से काफी तनाव में थे. मध्य प्रदेश के सुजालपुर के एक जमींदार परिवार में जन्मे उदयसिंह शेखावत उर्फ भैय्यू जी महाराज अपने लाइफ स्टाइल के लिए भी सुर्खियों में रहते थे. बताया जाता है कि जब वो अपने अनुयायियों के साथ किसी दौरे पर जाते थे तो भव्य काफिले के साथ मंहगे रिजॉर्ट में रुकना पसंद करते थे. भैय्यू जी के अनुयायी उन्हें 'युवा राष्ट्र संत' कहते थे. उनकी वेबसाइट पर लिखा हुआ है कि वो एक आध्यात्मिक गुरु, समाज सुधारक और मोटिवेटर हैं. जिनकी जिंदगी का मकसद गरीबों और शोषितों के चेहरे पर खुशी लाना है. एक प्रभावशाली मराठी आध्यात्मिक गुरु होने के कारण कई पार्टियों के बड़े नेता और कारोबारियों से उनके अच्छे संबंध रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे से भी उनके अच्छे रिश्ते थे. साल 2015 में उनकी पहली पत्नी माधवी का निधन हो गया था. इसके बाद उन्होंने सार्वजनिक जीवन से संन्यास का ऐलान कर दिया. 1 साल बाद ही भैय्यू जी ने ग्वालियर की डॉ आयुषी के साथ शादी की, उस वक्त भैय्यू जी की उम्र 49 साल थी.

Show more
content-cover-image
जानिए भैय्यू जी महाराज दूसरे आध्यात्मिक गुरुओं से कैसे अलग थे? बॉलीवुड के किस्से