content-cover-image
अक्षय की गोल्ड में दिखेगा किरदार, कौन थे 'हॉकी के दादा' किशन लाल?

बॉलीवुड के किस्से

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

अक्षय की गोल्ड में दिखेगा किरदार, कौन थे 'हॉकी के दादा' किशन लाल?

अक्षय कुमार की 'गोल्ड' 15 अगस्त को बड़े पर्दे पर आने वाली है. फिल्म राष्ट्रवाद, खेल भावना पर आधारित है. फिल्म का ट्रेलर इंटरनेट पर आ चुका है और इसके कंटेंट की जमकर तारीफ भी हो रही है. फिल्म में भारतीय हॉकी के स्वर्ण काल यानी तपन दास की जर्नी का जिक्र है. कैसे 1936 में एक युवा असिस्टेंट मैनेजर आजाद देश के लिए खेलने का सपना देखता है. फिल्म में मेल लीड का रोल अक्षय कुमार कर रहे हैं. पर क्या आप जानते हैं कि 1948 में देश के लिए आखिर गोल्ड जितने वाला व्यक्ति कौन था? इस हॉकी खिलाड़ी का नाम किशन लाल था, वह उस वक़्त टीम के कप्तान थे. ट्रेलर में अक्षय कुमार उस मैच का जिक्र भी करते हैं, जिसके बाद हमें आजादी मिली थी. किशन लाल ने 1948 में भारत की जीत में अहम किरदार निभाया था. उस वक्त हॉकी टीम ने ब्रिटेन की टीम को 4-0 से धूल चटाई थी. बचपन में किशन लाल गोल्फ के दीवाने थे और इसी से वे हॉकी खेलने की ओर आकर्षित हुए. उन्होंने 14 साल की उम्र में खेलना शुरू किया. उन्होंने झांसी के महान हॉकी खिलाड़ी ध्यान चंद के साथ भी खेला. 1948 में उन्हें इंडिया का कप्तान बनाया गया था , और इसके बाद वे इतिहास बनाते रहे. 28 साल तक देश को कई पदक और पुरस्कार दिलाने वाले किशन लाल रेलवे स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड के तहत चीफ कोच थे .और उन्हें देश में दादा का संबोधन मिला हुआ है. उन्हें सरकार ने 1966 में पद्मश्री से सम्मानित किया. राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने उन्हें पुरस्कार से नवाजा था. 22 जून 1980 को उन्होंने आखिरी सांस ली थी. अब ये देखना दिलचस्त होगा की अक्षय कुमार जैसे बेहतरीन actor दादा के किरदार में दर्शको को कितने पसंद आते हैं.

Show more
content-cover-image
अक्षय की गोल्ड में दिखेगा किरदार, कौन थे 'हॉकी के दादा' किशन लाल?बॉलीवुड के किस्से