content-cover-image

किसी की आँख का शोला नज़र पे रक्खा है ये मुमकिन है की घर जला डाले

Namokar Poetry

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

किसी की आँख का शोला नज़र पे रक्खा है ये मुमकिन है की घर जला डाले

किसी की आँख का शोला नज़र पे रक्खा है ये मुमकिन है की घर जला डाले

Show more
content-cover-image
किसी की आँख का शोला नज़र पे रक्खा है ये मुमकिन है की घर जला डाले Namokar Poetry