content-cover-image

पहले तो हमे लोगों तड़पाते हैं जी भरके तब जाके कहीं अपना दीदार कराते हैं |

Namokar Poetry

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

पहले तो हमे लोगों तड़पाते हैं जी भरके तब जाके कहीं अपना दीदार कराते हैं |

पहले तो हमे लोगों तड़पाते हैं जी भरके तब जाके कहीं अपना दीदार कराते हैं |

Show more

content-cover-image
पहले तो हमे लोगों तड़पाते हैं जी भरके तब जाके कहीं अपना दीदार कराते हैं |Namokar Poetry