content-cover-image

ये कैसा इंक़लाब आया इलाही कोई हक़ बात अब कहता नहीं है |

Namokar Poetry

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

ये कैसा इंक़लाब आया इलाही कोई हक़ बात अब कहता नहीं है |

ये कैसा इंक़लाब आया इलाही कोई हक़ बात अब कहता नहीं है |

Show more
content-cover-image
ये कैसा इंक़लाब आया इलाही कोई हक़ बात अब कहता नहीं है |Namokar Poetry