content-cover-image
अब बिहार में भी दिख रहा असम NRC का असर

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

अब बिहार में भी दिख रहा असम NRC का असर

असम में रहने वाले 73 हजार बिहार के मूलवासियों ने अपने जाति, जन्म, आधार, मतदाता सूची, मतदाता पहचान पत्र, शैक्षणिक योग्यता से जुड़े प्रमाण पत्र, भू-अभिलेख, ड्राइविंग लाइसेंस संबंधित प्रमाण पत्र असम सरकार के माध्यम से सत्यापित कराने हेतु बिहार सरकार को भेजा गया है ताकि वहां बन रही राष्ट्रीय नागरिक पंजी (नेशनल रजिस्टर ऑफ सीटीजन्स) में उनका नाम शामिल कराया जा सके. बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि असम में 1951 के बाद पहली बार राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण का निर्माण असम समझौते के तहत सुप्रीम कोर्ट की देख-रेख में चल रहा है, जिसमें असम में रहने वाले भारतीय नागरिकों को सूचीबद्ध किया जा सके. जिन लोगों का नाम एनआरसी में शामिल नहीं है उन्हें विदेशी नागरिक माना जाएगा. इसलिए असम में रह रहे बिहार के लोगों को दस्तावेज की जरूरत पड़ रही है. उन्होंने कहा कि सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे शीध्र से शीध्र अभियान चलाकर दस्तावेजों को सत्यापित कराएं ताकि किसी बिहारी को असम में कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़े.

Show more
content-cover-image
अब बिहार में भी दिख रहा असम NRC का असर मुख्य खबरें