content-cover-image

वामपंथियों की गिरफ्तारी पर महाराष्ट्र सरकार का हलफनामा

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

वामपंथियों की गिरफ्तारी पर महाराष्ट्र सरकार का हलफनामा

भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में कुछ दिनों पहले की गई वामपंथी विचारकों की गिरफ्तारी पर महाराष्ट्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को हलफनामा दायर किया है। पुलिस ने सभी पांच कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी को सही ठहराया है। हलफनामे में महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि सभी 5 कार्यकर्ता समाज में अराजकता पैदा करने की योजना बना रहे थे। वे हिंसा को उजागर करने के लिए भयानक डिजाइन का हिस्सा हैं। महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी असंतोष या राय के अंतर के आधार पर नहीं की गई है। महाराष्ट्र पुलिस की ओर से कहा गया कि सभी 5 कार्यकर्ताओं को विश्वसनीय साक्ष्य के आधार पर गिरफ्तार किया गया था। महाराष्ट्र पुलिस अभी भी सभी कार्यकर्ताओं की हिरासत की मांग कर रही है। सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार 6 सितम्बर को इस मामले पर सुनवाई होगी। सरकार ने कहा है कि हाउस अरेस्ट से आरोपी भले ही कहीं जा नहीं पा रहे हैं, लेकिन अब भी वह सबूत मिटा सकते हैं। अगर हमें उनकी हिरासत मिलती है, तो हम अन्य आरोपियों के बारे में भी पता लगा सकते हैं। देश के कई हिस्सों में छापेमारी कर पुलिस ने 5 वामपंथी विचारकों- सुधा भारद्वाज, वरवरा राव, गौतम नवलखा, अरुण फेरेरा और वेरनॉन गोंजाल्विस को गिरफ्तार किया था। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर सभी की गिरफ्तारी पर रोक लगाते हुए 6 सितंबर तक हाउस अरेस्ट रखा गया है।

Show more

content-cover-image
वामपंथियों की गिरफ्तारी पर महाराष्ट्र सरकार का हलफनामामुख्य खबरें