content-cover-image

आरक्षण को पूरी तरह से समाप्त करना चाहिए: स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

आरक्षण को पूरी तरह से समाप्त करना चाहिए: स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती

अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के खिलाफ बोलने वाले द्वारका-शारदापीठ और ज्योतिषपीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती ने कहा कि आरक्षण को पूरी तरह से समाप्त कर दिया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि इसके बजाए समाज के हर वर्ग को उन्नति का समान अवसर देकर समाज सेवा के योग्य बनाया जाना चाहिए, तभी सभी की भलाई संभव है. उनके प्रतिनिधि द्वारा जारी बयान में यह जानकारी दी गई है. बयान के अनुसार, स्वामी ने कहा कि जिन्हें शिक्षा, नौकरी, तरक्की सभी में आरक्षण की विशेष सुविधा मिल रही हो, उन्हें कोई क्या सता पाएगा? उन्होंने पूछा कि जब वे आरक्षण का लाभ उठाकर उच्च पदों पर बैठे हैं, तो क्या उन्हें सता पाना सम्भव भी है. उन पर कोई कैसे अत्याचार करेगा. नेताओं को हर व्यक्ति, हर वर्ग के कल्याण के लिए सोचना चाहिए, न कि केवल किसी वर्ग विशेष के लिए. बता दें, शुक्रवार को द्वारका-शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा था कि केंद्र सरकार द्वारा संशोधित रूप में लाया गया SC/ST एक्ट भारतीय समाज में विघटन का कारण बनेगा. द्वारका-शारदापीठ की प्रतिनिधि डॉ दीपिका उपाध्याय द्वारा उनकी ओर से जारी बयान में कहा गया है कि केंद्र की बीजेपी सरकार हिंदू विरोधी है. इस कानून को सवर्णों को शोषित करने वाला बताया गया है.

Show more
content-cover-image
आरक्षण को पूरी तरह से समाप्त करना चाहिए: स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वतीमुख्य खबरें