content-cover-image
जिनका नाम NRC में नहीं , उनको देश से बाहर किया जाएगा

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

जिनका नाम NRC में नहीं , उनको देश से बाहर किया जाएगा

बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी राम माधव ने कहा कि जिन लोगों को असम की एनआरसी लिस्ट से बाहर निकाला गया है उन्हें वापस उनके देश भेज दिया जाएगा। वे सोमवार को 'एनआरसी-डिफेंडिंग द बॉर्डर, सिक्योरिटी द कल्चर' विषय पर आयोजित सेमिनार में बोल रहे थे। जबकि उसी सेमिनार में मौजूद मुख्यमंत्री सर्बानंदा सोनोवाल ने कहा कि एनआरसी को भारत के अंदर ही लागू किया जाएगा। सोनोवाल ने कहा कि भारत के वास्तविक नागरिकों को उनकी नागरिकता साबित करने का पूरा मौका मिलेगा और इसके बाद वे एनआरसी के फाइनल लिस्ट में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि एनआरसी सभी राज्यों में लागू किया जाना चाहिए। यह ऐसा दस्तावेज है जो भारतीयों की सुरक्षा करता है। एनआरसी पर सुप्रीम कोर्ट भारतीय नागरिकों की पहचान की बात करता है। गौरतलब है कि असम में रहने वाले कम से कम 40 लाख से ज्यादा लोगों को 30 जुलाई को जारी हुए एनआरसी सूची से बाहर कर दिया गया है। इस मुद्दे को राजनीति में खूब उछाला गया था। सेमिनार में माधव ने बताया कि 1985 में हस्ताक्षरित 'असम एकॉर्ड' के तहत एनआरसी की शुरुआत की गई थी। इसके तहत अवैध अप्रवासियों की पहचान कर उन्हें राज्य से वापस भेजना मकसद था। कोई भी देश अवैध अप्रवासियों को बर्दाश्त नहीं करेगा लेकिन राजनीतिक परिदृश्य को देखते हुए भारत इनके लिए धर्मशाला बन गया है। राहुल गांधी पर वार करते हुए माधव ने कहा कि नेहरू के महान परपोते को सबसे पहले इतिहास पढ़ लेना चाहिए और इसके बाद उन्हें इस काम में मदद करनी चाहिए। माधव ने कहा कि यह समस्या भविष्य में किसी भी दूसरे राज्य के साथ आ सकती है।

Show more
content-cover-image
जिनका नाम NRC में नहीं , उनको देश से बाहर किया जाएगामुख्य खबरें