content-cover-image
क्या सच में आधार सॉफ्टवेयर हैक हो गया ?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

क्या सच में आधार सॉफ्टवेयर हैक हो गया ?

आधार डेटा की सिक्योरिटी एक ऐसा टॉपिक है जो इसकी शुरुआत से ही सवालों के घेरे में है. अब आधार डेटा फिर से एक बार खबरों में है. क्योंकि तीन महीने तक चले एक इन्वेस्टिगेशन में दावा किया गया है कि एक सॉफ्टवेयर पैच है जो आधार आइडेंटिटी डेटाबेस में स्टोर डेटा की सिक्योरिटी को खतरे में डाल देता है, जिसे UIDAI द्वारा डेवलप नहीं किया गया है, इसकी मदद से कथित तौर पर हैकर्स आधिकारिक आधार एनरोलमेंट सॉफ्टवेयर के सिक्योरिटी फीचर को बंद कर अनाधिकृत आधार नंबर जेनरेट कर रहे हैं.कांग्रेस ने आधार के डेटाबेस में सेंध की खबरों के बीच मंगलवार को कहा कि UIDAI में दर्ज लोगों के विवरण खतरे में हैं. रिपोर्ट के अनुसार, कोई भी अनाधिकृत व्यक्ति 2,500 रुपये में आसानी से मिलने वाले इस पैच के जरिए दुनिया भर में कहीं भी आधार ID बना सकता है.वहीं, UIDAI ने एक बयान जारी करते हुए आधार सॉफ्वेयर हैक हो जाने की खबर को बेबुनियाद कहा है. कुछ लोग जानबूझकर लोगों के मन में भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं. UIDAI ने कहा है कि किसी भी डेटा को डिस्क में सेव करने से पहले जरूरी सुरक्षा उपायों को ध्यान में रखा जाता है.UIDAI ने आगे स्पष्ट किया कि कोई भी ऑपरेटर आधार बना या अपडेट नहीं कर सकता है. जब तक कोई निवासी स्वयं अपनी बॉयोमेट्रिक डिटेल उसे ना दे दे.UIDAI ने ये भी कहा है कि उनके द्वारा सिस्टम में समयानुसार नए सिक्योरिटी फीचर्स को जोड़ा जाता है. ताकि किसी भी नए खतरे से बचा जा सके.

Show more
content-cover-image
क्या सच में आधार सॉफ्टवेयर हैक हो गया ? मुख्य खबरें