content-cover-image
आंतकियों केि समर्थन में फिर मानवाधिकार संगठन

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

आंतकियों केि समर्थन में फिर मानवाधिकार संगठन

जम्‍मू-कश्‍मीर के उधमपुर जिले में मारे गए जैश-ए-मोहम्‍मद के तीन आतंकियों में से एक के शव को सुरक्षाबलों द्वारा रस्सियों से खींच कर ले जाने के मामले में अब विवाद शुरू हो गया है और मानवाधिकार संगठनों ने इस मामले पर आपत्ति जताई है। आतंकवादियों का भी मानवाधिकार होता है के सवाल को दरकिनार कर इन संगठनों ने इसे बर्बरतापूर्ण करार दिया है। सेना के रिटायर ब्रिगेडियर अनिल गुप्‍ता ने सेना का बचाव किया और कहा कि आतंकियों के शरीर में बम बंधे होने की आशंका होती है, इसलिए ऐसा एहतियात बरतने की आवश्‍यकता होती है। बुधवार को सीआरपीएफ के एक जवान और फॉरेस्ट गार्ड पर आतंकियों ने हमला कर दिया था। आतंकी हमला करके ककरियाल के जंगलों में फरार हो गए। सेना द्वारा चलाए सर्च ऑपरेशन में गुरुवार को 3 आतंकी मारे गए। आतंकियों और सेना के बीच हुई मुठभेड़ में सेना के 12 जवान भी घायल हुए। घायलों में एक पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं। 12 घंटे तक चला सेना का सर्च ऑपरेशन और मुठभेड़ दोपहर बाद खत्म हुई। तीन अलग-अलग मुठभेड़ों में गुरुवार को आठ आतंकवादी मारे गए थे । इनमें एक मुठभेड़ में पुलिस, अर्धसैनिक बल व सेना के 12 कर्मी घायल हो गए। मारे गए 8 आतंकवादियों में से तीन पाकिस्तानी थे।

Show more
content-cover-image
आंतकियों केि समर्थन में फिर मानवाधिकार संगठन मुख्य खबरें