content-cover-image
अपना रिकॉर्ड पिता को किया समर्पितमुख्य खबरें
00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

अपना रिकॉर्ड पिता को किया समर्पित
अपने पहले ही टेस्ट में शानदार शतक जमाने वाले युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने इस लाजवाब पारी को अपने पिता को समर्पित किया है. उसके यहां तक पहुंचने में पिता के त्याग की बड़ी भूमिका रही है. पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद शॉ ने यह शतक अपने पिता को समर्पित किया जिन्होंने अकेले ही उन्हें पाला पोसा. शॉ जब केवल 4 साल के थे तब उनकी मां का निधन हो गया था. उन्होंने कहा, 'मैंने कभी नहीं सोचा था मुझे अंडर-19 वर्ल्ड कप में जीत के बाद भारत से पदार्पण का मौका मिल जाएगा. मैं मैच दर मैच आगे बढ़ा और आखिर में आज मैंने पदार्पण किया. मैं इस पारी को अपने पिताजी को समर्पित करता हूं. उन्होंने मेरे लिए काफी बलिदान किए.' 19 साल के युवा बल्लेबाज ने कहा कि वह इंग्लैंड में कड़ी परिस्थितियों में भी बेहतर आक्रमण के सामने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने के लिये अच्छी तरह से तैयार थे. रणजी और दलीप ट्राफी में पदार्पण पर शतक जड़ने वाले शॉ ने उच्च स्तर पर भी यही कारनामा कर दिखाया है .
Show more
content-cover-image
अपना रिकॉर्ड पिता को किया समर्पितमुख्य खबरें