content-cover-image

UP Police : बदायूं के 'नेक दिल' SSP

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

UP Police : बदायूं के 'नेक दिल' SSP

यूँ तो पुलिस वाले अपनी क्रूरता और कठोरता के लिए जाने जाते हैं लेकिन कई बार पुलिसकर्मी कुछ ऐसा कर जाते हैं जो मिसाल बन जाता है. कुछ ऐसा ही काम किया है उत्तर प्रदेश के बदायूं डिस्ट्रिक्ट के SSP ने . बदायूं ssp अशोक कुमार शर्मा ने अपनी लोंगो की मदद करने वाली प्रवित्ति से ना सिर्फ शहरवासियों का दिल जीत लिया बल्कि इस कारण दूर-दूर तक उनकी चर्चा होने लगी. दरअसल, उनके सामने एक मामला आया जहाँ स्वेन क्लारा नाम के निजी अस्पताल ने अपनी मनमानी और लालच के चलते एक माँ को अपना बच्चा देने से इनकार कर दिया . मामला बदायूं जनपद के उसावां थाना छेत्र के अहमदनगर उखाड़ा गाँव का है जब मजदूरी कर गुज़ारा करने वाले विवेक की पत्नी पूजा ने एक pre mature बच्चे को जन्म दिया. इस कारण हॉस्पिटल में बच्चे को एडमिट कर उसका ट्रीटमेंट चला ,कई दिनों तक इलाज कायम रहने की वजह से अस्पताल का बिल करीब 2 लाख रुपये हो गया था . विवेक ने इधर- उधर से क़र्ज़ लेकर अस्पताल का बिल तो छूटता कर दिया लेकिन उसके घर पर कर्जदारों का तांता लग गया. सर पर चढ़ी उधारी से परेशान होकर उसने आत्महत्या कर ली . उधर, बच्चे की हालत भी अस्थिर थी..जिसके चलते हॉस्पिटल का खर्च अभी भी बढ़ता गया और लाखों की रकम तक पहुँच गया . पूजा का जीवन तो जैसे बिखर गया था . अब न तो उसके पास पति का सहारा रहा और न ही वो हॉस्पिटल को पैसे दे पाने में समर्थ थी . जिसकी वजह से अस्पताल प्रशासन ने उसे उनका बच्चा देने से साफ़ मना कर दिया. लेकिन इस असहाय माँ की अत्यंत मुश्किल वक़्त में मदद के लिए बदायूं के ssp अशोक कुमार शर्मा तो जैसे मसीहा के रूप में आये . पूजा की मदद के लिए उन्होंने क्या कदम उठाये सुनिए अशोक जी की जुबानी..... वहीँ पूजा इस बड़ी सहायता के लिए ssp जी को धन्यवाद करते नहीं थक रही ..

Show more
content-cover-image
UP Police : बदायूं के 'नेक दिल' SSP मुख्य खबरें