content-cover-image

B'Day Special: क्यूँ इतने विवादित नेता थे राजीव गांधी ?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

B'Day Special: क्यूँ इतने विवादित नेता थे राजीव गांधी ?

देश के पहले 'युवा' प्रधानमंत्री राजीव गांधी का 20 अगस्‍त को यानी आज जन्मदिन है. जाहिर है सोशल मीडिया पर लोग आज राजीव गांधी को याद कर रहे हैं. #RajivGandhi ट्रेंड हो रहा है. लेकिन लोगों के कुछ संदेश ऐसे भी हैं जो गांधी को एक अलग ही रूप में दर्शाते हैं. विवाद किस नेता से जुड़े नहीं होते. जाहिर है राजीव गांधी से भी जुड़े थे. हालांकि आज का दिन ऐसा नहीं है कि राजीव गांधी से जुड़े विवादों को कुरेदा जाए. लेकिन सोशल मीडिया पर लोगों ने आज के दिन उनके इसी पहलू का उजागर किया है. लोगों ने उन्हें बहुत से मामलों के लिए जिम्मेदार बताया है. जिनमें से कुछ हैं- 1984 के दंगे- 1984 में इंदिरा गांधी की मृत्यु के बाद राजीव गाधी का एक बयान आया था जिसमें उन्होंने कहा था, ‘जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है.’ राजीव गांधी के इस बयान को 1984 के सिख विरोधी दंगों से जोड़कर देखा जाता रहा. उन्हें हजारों सिखों की मौत का जिम्मेदार माना जाता है. शाहबानो मामला- शाहबानो मामला जिसने देश की राजनीति को बदलकर रख दिया, उसके लिए भी तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के फैसले को गलत माना गया था. 1978 में जब शाहबानो के पति ने उन्हें तलाक दिया था तब पांच बच्चों की मां 62 वर्षीय शाहबानो ने गुजारा भत्ता पाने के लिए कानून की शरण ली. सुप्रीम कोर्ट ने शाहबानो के हक में फैसला दिया और पति को गुजारा भत्ता देने के लिए कहा. लेकिन राजीव गांधी सरकार ने मुस्लिम महिलाओं को मिलने वाले मुआवजे को निरस्त करते हुए एक साल के भीतर मुस्लिम महिला (तलाक में संरक्षण का अधिकार) अधिनियम, (1986) पारित कर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलट दिया. माना जाता है कि राजीव गांधी ने ऐसा मुस्लिम धर्मगुरुओं के दबाव में आकर किया था. भोपाल गैस कांड- भोपाल गैस कांड भी 1984 में हुआ था. घटना के करीब एक महीने पहले ही राजीव गांधी देश के प्रधानमंत्री बने थे. उनके कार्यकाल की यह पहली बड़ी त्रासदी दी थी. जिस कारखाने से गैस का रिसाव हुआ था उसके मालिक थे वारेन एंडरसन. हादसे के बाद एंडरसन भोपाल आए. भोपाल गुस्से में था. वारेन एंडरसन की पहुंच तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी तक थी. भोपाल प्रशासन ने राजीव गांधी को दो टूक शब्दों में कह दिया कि वे एंडरसन को सुरक्षा नहीं दे सकते. मजबूरन राजीव गांधी के निर्देश पर तत्कालीन गृह मंत्री एवं पूर्व प्रधानमंत्री पी.वी. नरसिंहराव ने अर्जुन सिंह सरकार को स्पष्ट निर्देश दिए कि एंडरसन को सुरक्षित रवाना किया जाए. तत्कालीन कलेक्टर मोती सिंह ने इस घटना के बारे में लिखी किताब भोपाल गैस त्रासदी का सच में एंडरसन की रिहाई का सच भी लिखा है. इस सच को उजागर करने के कारण उनके खिलाफ आरोपी को भगाने का मुकदमा भी दर्ज किया गया था.

Show more
content-cover-image
B'Day Special: क्यूँ इतने विवादित नेता थे राजीव गांधी ?मुख्य खबरें