content-cover-image

Breaking: अंतरिक्ष में भारत को एक और बड़ी उपलब्धि, चांद की कक्षा में स्थापित हुआ Chandrayaan 2

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Breaking: अंतरिक्ष में भारत को एक और बड़ी उपलब्धि, चांद की कक्षा में स्थापित हुआ Chandrayaan 2

भारत का महात्वकांक्षी चंद्रमिशन चंद्रयान-2 सफलतापूर्वक चंद्रमा की कक्षा में मंगलवार सुबह नौ बजकर दो मिनट पर स्थापित हो गया है। चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश करने में चंद्रयान को 1738 सेकेंड्स का समय लगा। इसे 29 दिन पहले श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपित किया गया था। चंद्रयान-2 को चांद की कक्षा में प्रवेश कराना वैज्ञानिकों के लिए कड़ी चुनौती थी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के सिवन इसे लेकर आज सुबह 11 बजे प्रेस कांफ्रेंस करेंगे। जिसमें वह मिशन को लेकर बात करेंगे। इससे पहले सोमवार को सिवन ने बताया था कि चांद की कक्षा में आने के बाद से चंद्रयान-2 चांद की चार कक्षाओं से होकर गुजरेगा, जिसके बाद यह चांद की अंतिम कक्षा में दक्षिणी ध्रुव पर करीब 100 किमी ऊपर से गुजरेगा। इसी दौरान यानी दो सितंबर को यान का विक्रम लैंडर ऑर्बिटर से अलग हो जाएगा। विक्रम चार दिन तक 30 गुणा 100 किमी के दायरे में चांद का चक्कर लगाएगा। इसके बाद यह चांद के दक्षिणी ध्रुव में सतह पर सात सितंबर को अपना कदम रखेगा। 22 जुलाई को लॉन्च हुए इस मिशन ने इससे पहले 23 दिन पृथ्वी के चक्कर लगाए थे। फिर चंद्रमा की कक्षा में पहुंचने में इसे 6 दिन लगे। चांद की कक्षा में पहुंचने के बाद यान 13 दिन तक चक्कर लगाएगा। चार दिन बाद यानी संभवत: सात सितंबर को वह चांद की सतह पर पहले से निर्धारित जगह पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। वैज्ञानिकों के मुताबिक, चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग इसरो के लिए इस मिशन की सबसे बड़ी चुनौती होगी, क्योंकि वहां हवा नहीं चलती और गुरुत्वाकर्षण बल भी हर जगह अलग-अलग होता है।

Show more
content-cover-image
Breaking: अंतरिक्ष में भारत को एक और बड़ी उपलब्धि, चांद की कक्षा में स्थापित हुआ Chandrayaan 2 मुख्य खबरें