content-cover-image

Spl: चिदंबरम के जी का जंजाल, जानिए क्या है INX मीडिया मामला

Khabri Editorials & Interviews

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Spl: चिदंबरम के जी का जंजाल, जानिए क्या है INX मीडिया मामला

बुद्धवार को दिल्ली हाई कोर्ट के जज सुनील गौड़ ने INX Media Case में पूर्व वित्त मंत्री P Chidambaram को अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया , जिसके बाद, बीती रात पी चिदंबरम की गिरफ्तारी हो गयी . 27 घंटों तक CBI के साथ आँख-मिचोली खेलने के बाद वो सामने आये थे. CBI ने पूर्व वित्त मंत्री जी को एक नाटकीय घटनाक्रम के बाद बुधवार रात को कोई साधारण तरीके से गिरफ्तार नहीं किया था, बल्कि बड़ी जद्दोजहद करनी पड़ी. सीबीआई अधिकारियों की टीम पहले तो दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के साथ जोर बाग स्थित चिदंबरम के आवास पर पहुंची. कुछ देर मुख्य दरवाजा खटखटाने के बाद अधिकारियों ने परिसर की दीवार फांदकर घर में प्रवेश किया. चलो, किसी तरह गिरफ्तारी हुयी. उसके बाद ; कांग्रेस सरकार में अपने कार्यकाल के दौरान सरकारी गाड़ी में रौब से आगे की seat पर बैठकर चलने वाले chidambaram, कल भी एक सरकारी गाड़ी में CBI officers और पुलिसवालों से घिरे बैठे नज़र आये. चेहरे पर बेबसी और मायूसी दिखी, ज़ाहिर है. इसके बाद सीबीआई अधिकारी पूर्व वित्त मंत्री को उनके आवास से सीबीआई मुख्यालय ले गये. ये भी कोई आम जगह नहीं, ये सीबीआई का वही मुख्यालय था, जिसके उद्घाटन में आठ साल पहले पी चिदंबरम पहुंचे थे. उस वक्त वो केंद्रीय गृह मंत्री थे. इस मुख्यालय का उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने किया था. जिसके दौरान पूर्व प्रधानमंत्री के साथ पी चिदंबरम भी मौजूद थे. Chidambaram को उठानी पड़ी इन सारी मुश्किलों का कारण रहा ..मुआ INX Media. कैसे..क्यूँ ..कब.. क्या क्या हुआ हम बताते हैं ... किस्सा सन 2007 से शुरू होता है, जब चिदंबरम वित्त मंत्री थे. उस वक़्त उन्होंने पीटर मुखर्जी और इंद्राणी मुखर्जी की कंपनी INX Media को एक मंज़ूरी दिलाई. इसके बाद इस कंपनी में कथित रूप से 305 करोड़ का विदेशी निवेश आया. अनुमति मिली थी मात्र पांच करोड़ के निवेश की, लेकिन आईएनएक्स मीडिया में 300 करोड़ से अधिक का निवेश हुआ. मामला सामने आने के बाद, कथित रूप से खुद को बचाने के लिए आईएनएक्स मीडिया ने कार्ति चिदंबरम के साथ साज़िश की और सरकारी अफसरों को प्रभावित करने का प्रयास किया. दावा किया गया है कि चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम ने रिश्वत ली थी. जिस वजह से पिछले साल कार्ति चिदंबरम को गिरफ्तार किया गया था. वे 23 दिनों तक हिरासत में रहे थे. सीबीआई का आरोप है कि कार्ति चिदंबरम के कंट्रोल में चलने वाली एक निजी कंपनी को इंद्राणी और पीटर मुखर्जी के मीडिया हाउस से फंड ट्रांसफर हुआ था. CBI ने ये भी इलज़ाम लगाया कि कार्ति ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके आईएनएक्स को फॉरेन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट क्लियरेंस हासिल करने में मदद की थी. ये मामला 15 मई 2017 को CBI द्वारा दर्ज हुआ और बहुत उछला, जानिये मामले की जांच में कब क्या हुआ -

Show more
content-cover-image
Spl: चिदंबरम के जी का जंजाल, जानिए क्या है INX मीडिया मामला Khabri Editorials & Interviews