content-cover-image

लोगों में भय पैदा कर रहे हैं Amit Shah

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

लोगों में भय पैदा कर रहे हैं Amit Shah

ऑल इंडिया वुमनकांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव ने बुधवार को कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस पर गैर-जिम्मेदाराना बयान नहीं देना चाहिए।वे लोगों में भय पैदा कर रहे हैं। उन्हें ऐसे बयानों से बचना चाहिए।एनआरसी के प्रकाशित करने की अंतिम तिथि 31 अगस्त है। नागपुर में प्रेस कॉन्फ्रेंस में सुष्मिता देव ने कहा, ‘‘असम के लोग शांति प्रिय है। एनआरसी के प्रकाशन के बाद राज्य में कोई गड़बड़ी या हिंसा नहीं होगी।" इससे पहले गृह मंत्रालय ने लोगों का डर दूर करने के लिए ये स्पष्ट किया था कि अगर किसी व्यक्ति का नाम फाइनल लिस्ट में शामिल नहीं किया जाता है तो इसका मतलब ये नहींकि वह विदेशी घोषित हो जाएगा। फॉरेनर्स एक्ट 1946 और फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल ऑर्डर 1964 के मुताबिक, किसी भी व्यक्ति को विदेशी घोषित करने का अधिकार केवल फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल के पास ही है। एनआरसी का पहला ड्राफ्ट 30 जुलाई 2018 को प्रकाशित किया गया था। इसका मकसद असम में अवैध अप्रवासियों की पहचान करना है। 2011 की जनगणना के अनुसार असम की कुल जनसंख्या 3.11 करोड़ से ज्यादा थी।

Show more
content-cover-image
लोगों में भय पैदा कर रहे हैं Amit Shahमुख्य खबरें