content-cover-image

GSP सूची से बाहर किया जाए PAK

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

GSP सूची से बाहर किया जाए PAK

यूरोप इंडिया चैंबर ऑफ कॉमर्स ने यूरोपीय कमीशन में ईयू कमीश्नर ऑफ ट्रेड सेसिला मल्मस्ट्रोम को एक खत लिखा है। जिसमें पाकिस्तान से जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंस प्लस स्टेटस वापस लेने की मांग की गई है। इसमें इसके पीछे का कारण पाकिस्तान में सिख, हिंदू और ईसाई समुदाय पर होने वाला अत्याचार बताया गया है। इस खत पर 12 सितंबर की तारीख पड़ी है। ईआईसीसी ने इसमें अल्पसंख्यक समुदाय की लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन कराए जाने के मामलों पर भी प्रकाश डाला है। खत में लिखा है, "मैडम कमिश्नर, पाकिस्तान ईसाई, सिख और हिंदुओं का नसंहार कर रहा है, जिससे हम काफी चिंतित हैं। अल्पसंख्यकों ने पाकिस्तान में ऐतिहासिक और वर्तमान धार्मिक उत्पीड़न और व्यवस्थित हिंसा का अनुभव किया है। ये सब जबरन धर्मांतरण, प्रलेखित नरसंहार, विध्वंस और गिरजाघरों और मंदिरों के विनाश के साथ-साथ शैक्षिक केंद्रों के विनाश के रूप में सामने आते रहे हैं।" बता दे की पाकिस्तान के जीएसपी से बाहर करने का मुद्दा 9 सितंबर को ब्रूजेल्स में यूरोपियन पार्लियामेंट सब-कमिटि की मानवाधिकारों पर हुई बैठक में यूरोपियन पार्लियामेंट के सदस्यों ने उठाया था। साथ ही बता दे की GSP सूची एक अमेरिकी व्यापार कार्यक्रम है.GSP स्कीम के तहत अमेरिका विकाससील और अन्य देशों के उत्पादों को अमेरिका में ड्यूटी फ्री एंट्री प्रदान करता है.

Show more
content-cover-image
GSP सूची से बाहर किया जाए PAK मुख्य खबरें