content-cover-image

Madhya Pradesh Regional News 16th September

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Madhya Pradesh Regional News 16th September

मध्यप्रदेश के मंदसौर में बारिश 75 साल का रिकॉर्ड तोड़ चुकी है। बारिश से 200 गांवों में हालात भयावह कर दिए हैं। बीते शुक्रवार शाम से और रविवार सुबह तक यहां 9 इंच बारिश हुई, जिसके कारण 200 गांवों में कमर तक पानी घुस गया। जिला प्रशासन ने 117 गांवों को खाली करा लिया है। अब तक 20 हजार लोगों को 55 राहत कैंपों में पहुंचाया जा चुका है। वहीं, शनिवार देर रात करीब ढाई बजे गांधी सागर डैम का पानी मंदसौर और नीमच जिले के 63 गांवों में पानी घुस गया। जब लोग घरों में सोए हुए थे, तब बाढ़ से दहशत फैल गई। आननफानन में गांवों को नावों के जरिए खाली कराया गया, जो रविवार सुबह 9 बजे तक जारी रहा। गांधी सागर बांध के कारण मप्र-राजस्थान में बनी परिस्थितियों की रविवार को केंद्र सरकार ने समीक्षा की। गांधी सागर में बारिश का 16 लाख क्यूसेक पानी आ रहा है, जबकि 5 लाख क्यूसेक छोड़ा जा रहा है। इससे बाढ़ आ गई। रविवार सुबह 6 से सुबह 8 तक राजाभोज एयरपोर्ट पर दृश्यता 300 मीटर ही रह गई थी। सुबह हज यात्रियों की एक फ्लाइट भोपाल एयरपोर्ट के ऊपर मंडराती रही। कम विजिबिलिटी के कारण एयरपोर्ट अथॉरिटी ने फ्लाइट को डायवर्ट कर नागपुर एयरपोर्ट पर लैंड कराया। हालांकि बाद में उसे दोबारा भोपाल लाया गया। मुंबई से भोपाल आने वाली इंडिगो की फ्लाइट भी विजिबिलिटी कम होने कारण रन वे पर नहीं उतर सकी। इसे इंदौर डायवर्ट करना पड़ा। बड़े तालाब में बाेट क्लब से 100 मीटर दूर एक से डेढ़ फीट ऊंची पानी की लहराें के बीच रविवार दाेपहर लेक प्रिंसेज (क्रूज) मछुअाराें द्वारा बिछाए गए जाल में फंस गया। इससे क्रूज में मौजूद 55 पर्यटक दहशत में अा गए। नाराज पर्यटकाें के विराेध के बाद मप्र पर्यटन निगम की जलपरी (मोटर बोट) की मदद से सभी काे सुरक्षित बाेट क्लब पहुंचाया गया। हादसे के 20 मिनट बाद डीप डाइवर ने मछली पकड़ने के लिए बिछाए गए जाल काे काटा। इसके बाद क्रूज काे बाेट क्लब लाया गया। नगर निगम कमिश्नर बी. विजय दत्ता ने कहा कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। वहीं बाहर आकर लोगों ने आपबीती बताई।

Show more
content-cover-image
Madhya Pradesh Regional News 16th Septemberमुख्य खबरें