content-cover-image

IIT Delhi के छात्रों ने प्लास्टिक का ऐसे किया इस्तेमाल

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

IIT Delhi के छात्रों ने प्लास्टिक का ऐसे किया इस्तेमाल

एक तरफ दुनिया भर में पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इधर भारत में प्लास्टिक से पेट्रोल और डीजल के उत्पादन की तैयारी शुरु हो चुकी है. सरकार लगातार सिंगल यूज प्लास्टिक इस्तेमाल न करने पर जोर दे रही है. इसी बीच IIT दिल्ली के छात्रों ने ऐसा फार्मूला तैयार किया है. जिस से सिंगल यूज़ प्लास्टिक से पेट्रोल और डीजल बनाया जा रहा है. क्या आपने कभी सोचा है, घरों में इस्लेमाल होने वाली प्लास्टिक की थैलियों में से पैट्रोल - डीजल निकाला जा सकता है? लेकिन IIT के छात्रों ने ये कर दिखाया है. जहां एक लीटर डीजल की कीमत बाजार में 65-68 रुपये के बीच है. वहीं इस तकनीक से तैयार किया गया डीजल आपको 45 रुपये प्रति लीटर में मिल सकता है. इस तकनीक की मदद से 1 किलो सिंगल यूज़ प्लास्टिक से क़रीब 750ml डीजल बन सकता है.प्लास्टिक की पॉलीथिन में पॉलीएथलीन और पॉलीप्रोपेलीन का इस्तेमाल होता है. इसको छोटे छोटे पीस में काटा जाता है. इसके बाद टू स्टेप रिएक्टर सिस्टम की मदद से इस प्लास्टिक को 350 डिग्री पर पिघलाया जाता है. इसके बाद एक ख़ास तरह के कैटेलिस्ट का इस्तेमाल किया जाता है जो सिर्फ़ पेट्रोल या डीजल के ही पेपर बनाता है. इस तकनीक पर काम कर रही IIT दिल्ली की छात्रा उमा द्विवेदी का कहना है कि इस तकनीक से तैयार किया गया डीजल सरकार द्वारा निर्धारित कमर्शियल पेट्रो केमिकल के मानकों पर पूरी तरह से खरा उतरता है. फिलहाल सिंगल यूज़ प्लास्टिक से बना डीजल टेस्ट हो चुका है और इसके सभी गुण बाज़ार में बिकने वाले डीजल से मिलते हैं. साथ ही इसी तकनीक से पेट्रोल बनाने की भी कोशिश की जा रही है.

Show more
content-cover-image
IIT Delhi के छात्रों ने प्लास्टिक का ऐसे किया इस्तेमालमुख्य खबरें