content-cover-image

चीन सीमा के सटे 14 गांव पूरी तरह हुए खाली, अलर्ट हुई सरकार

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

चीन सीमा के सटे 14 गांव पूरी तरह हुए खाली, अलर्ट हुई सरकार

उत्तराखंड (Uttarakhand) राज्य बनने के 18 साल बाद भी देवभूमि के पर्वतीय इलाकों को अगर कुछ हासिल हुआ है तो वो है खाली गांव. राज्य में दर्जनों गांव लोगों से खाली हो चुके हैं. पलायन रोकने को लेकर राज्य बनने के बाद से ही लगातार राजनीति होती रही है, लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात ही रहा. उत्तराखंड में चीन सीमा (China Border) पर बसे गांवों से पलायन (Migration) को लेकर केंद्र सरकार (Central Government) ने अलर्ट जारी किया है. राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (National Security Council) की बैठक में इस पर चर्चा की जा रही है. जानकारी के मुताबिक, 27 सितम्बर को दिल्ली में सुरक्षा परिषद की बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले हो सकते हैं. उत्तराखंड पलायन आयोग के अध्यक्ष डॉ. एसएस नेगी इस पर परिषद के सामने प्रेजेंटेशन देंगे. सुरक्षा परिषद तब सक्रिय हुई जब उन्हें पता चला कि चीन की सीमा से लगते हुए 14 गांव पूरी तरह से खाली हो गए. पलायन की मार यहां ऐसी पड़ी कि चमोली का एक, पिथौरागढ़ के 8 और चम्पावत के 5 गांव पूरी तरह खाली हो गए. यहीं नहीं 8 दूसरे गांव ऐसे हैं, जहां पिछले 7-8 साल में जनसंख्या आधी रह गई. केंद्र अब सीमांत गांवों के लिए विशेष पैकेज देने की तैयारी भी कर रहा है. चीन के सैनिकों की उत्तराखंड की सीमा में भी आवाजाही की खबरें आती रहती हैं.

Show more
content-cover-image
चीन सीमा के सटे 14 गांव पूरी तरह हुए खाली, अलर्ट हुई सरकारमुख्य खबरें