content-cover-image

Abhinandan के लिए DRDO ने की खास तैयारी

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Abhinandan के लिए DRDO ने की खास तैयारी

बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान का पीछा करने के दौरान विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान का संपर्क ग्राउंड पर मौजूद कंट्रोल रूम से नहीं हो पाया था। पायलट कैबिन में लगे रेडियो और कंट्रोल रूम के रेडियो के बीच संदेशों का आदान-प्रदान नहीं हो सका। उस दौरान कंट्रोल रूम से अभिनंदन को जो संदेश भेजा गया, वह रेडियो जाम होने के कारण डिलीवर नहीं हो पाया। इस संदेश में कंट्रोल रूम की ओर से अभिनंदन को वापस लौटने का मैसेज दिया गया था। लेकिन पाकिस्तान के रेडियो सिग्नल को जाम या उन्हें कमजोर करने के चलते अभिनंदन को संदेश पहुंच नहीं पाया और वे पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर तक गए थे। केंद्र सरकार ने बालाकोट एयरस्ट्राइक की घटना से सबक लेते हुए अब यह कदम उठाया है। इस बाबत डीआरडीओ को रक्षा मंत्रालय की मंजूरी मिल चुकी है। डीआरडीओ की इस खास तकनीक पर जैमर आदि का कोई प्रभाव नहीं होता। लड़ाकू विमान में बैठे पायलट और ग्राउंड पर बने कंट्रोल रूम के बीच संदेशों का आदान प्रदान-बिना किसी बाधा के होता रहता है। नई तकनीक वाले उपकरण मिलने के बाद शत्रु राष्ट्र न तो संदेशों को रोक सकेगा और न ही उन्हें पकड़ पाएगा।

Show more
content-cover-image
Abhinandan के लिए DRDO ने की खास तैयारी मुख्य खबरें