content-cover-image

NCR पहुंचा Madhya Pradesh का हनीट्रैप मामला

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

NCR पहुंचा Madhya Pradesh का हनीट्रैप मामला

मध्यप्रदेश के हनीट्रैप मामले के तार अब दिल्ली और गाजियाबाद से जुड़ते नजर आ रहे हैं। ताजा खुलासे से राजनेताओं और प्रशासनिक अमले में हड़कंप मचा हुआ है। इस मामले की मॉनिटरिंग खुद प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ कर रहे हैं। बुधवार को उन्होंने अपने मंत्रियों के साथ अलग-अलग बैठक कर मामले की जांच के बारे में जानकारी ली। हनीट्रैप मामले की आरोपी श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वप्निल जैन और बरखा को 30 सितंबर तक पुलिस रिमांड पर भेजा दिया गया है। अन्य आरोपी आरती दयाल और मोनिका यादव को एक अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है। मध्यप्रदेश पुलिस की सायबर सेल ने गाजियाबाद के पॉश इलाके में बिना सरकारी मंजूरी के फ्लैट ले रखा था। पुलिस महानिदेशक वीके सिंह ने इस मामले की जानकारी होने के बाद कई वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों को फटकारा और पूछा कि इतनी दूर सायबर सेल के लिए फ्लैट लेने का क्या कारण था। इसके बाद हरकत में आई पुलिस ने आनन-फानन में सायबर सेल से फ्लैट खाली करवा लिया है। सूत्रों के अनुसार, मध्यप्रदेश पुलिस की सायबर सेल ने सरकारी कामकाज के नाम पर दिल्ली से सटे गाजियाबाद जिले के एक पॉश इलाके में किराये का फ्लैट लिया हुआ है। जांच शुरू हई तो सवाल उठा कि फ्लैट दिल्ली से दूर वो भी बिना शासकीय अनुमति के क्यों लिया गया। हनीट्रैप मामले की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) की नजर मध्यप्रदेश के कई आईएएस अफसरों पर है। इनमें से एक अधिकारी आरोपी के घर भी देखे गए थे। माना जा रहा है कि टीम जल्द ही उनसे सवाल-जवाब कर सकती है।

Show more
content-cover-image
NCR पहुंचा Madhya Pradesh का हनीट्रैप मामलामुख्य खबरें