content-cover-image

भारतीय कुश्ती कोच की हुई छुट्टी, मांग पड़ी भारी

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

भारतीय कुश्ती कोच की हुई छुट्टी, मांग पड़ी भारी

लंबे इंतजार के बाद भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवानों के लिए अनुबंधित किए गए ईरानी कोच हुसैन करीमी से भारतीय कुश्ती संघ ने छह माह में ही तौबा कर लिया। संघ ने दावा किया किया कि ईरान का यह कोच अपने साथ वीआईपी संस्कृति लेकर आया, जिसका देश में पालन नहीं किया जा सकता, इसलिए उन्हें समय से पहले ही पद से हटाया जा रहा है जबकि करीमी का अनुबंध टोक्यो ओलंपिक तक था। ईरान के इस कोच को उनकी बर्खास्तगी का नोटिस बुधवार को सौंपा गया। करीमी के साथ काम करते हुए डब्ल्यूएफआई को किन परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था इस बारे में पूछने पर सहायक सचिव विनोद तोमर ने कहा कि वह कभी कोचों या पहलवानों के साथ रिश्ते नहीं बना पाए। करीमी को 3500 डालर के मासिक वेतन पर नियुक्त किया गया था, लेकिन डब्ल्यूएफआई ने कहा कि उनकी अतिरिक्त मांगों के कारण खर्चे 5000 डॉलर पहुंच गया था। डब्ल्यूएफआई के लिए चिंता की एक अन्य बड़ी बात यह था कि करीमी का अपने शिष्यों तक के साथ कोई लगाव नहीं था। डब्ल्यूएफआई ने विश्व चैंपियनशिप के दौरान उज्बेकिस्तान और रूस के कुछ कोचों से बात की और कुछ इच्छुक उम्मीदवारों को आवेदन करने को कहा है। राष्ट्रीय शिविर एक नवंबर से शुरू होगा और डब्ल्यूएफआई के इससे पहले किसी को नियुक्त करने की उम्मीद है।

Show more
content-cover-image
भारतीय कुश्ती कोच की हुई छुट्टी, मांग पड़ी भारीमुख्य खबरें