content-cover-image

Hyderabad: निज़ाम की विरासत पर अब 120 वंशजों के बीच लड़ाई

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Hyderabad: निज़ाम की विरासत पर अब 120 वंशजों के बीच लड़ाई

हैदराबाद के निजाम की करीब 305 करोड़ रुपए की विरासत में हिस्सेदारी नहीं मिलने की सूरत में उनके 120 वारिस कानूनी जंग लड़ने को तैयार हैं. निजाम की यह विरासत पिछले सात दशक से लंदन के एक बैंक में संजोई हुई है. इस विरासत को लेकर 70 साल से चल रहे मुकदमे में यूके हाईकोर्ट ने दो अक्टूबर को फैसला भारत के पक्ष में सुनाया है. अब सवाल हैदराबाद के सातवें निजाम मीर उस्मान अली खान के कानूनी वारिसों का है क्योंकि निजाम के राज्य का विलय 1948 में भारत में हो गया था. अदालत के फैसले के बाद आई कुछ रिपोर्ट के मुताबिक यह धन कहने को आठवें निजाम प्रिंस मुक्करम जाह बहादुर और उनके छोटे भाई मुफ्फाखम जाह को मिलेगा जबकि आखिरी आसफ जाही शासक के वंशज भी अपनी हिस्सेदारी का दावा करने की तैयारी में हैं.

Show more
content-cover-image
Hyderabad: निज़ाम की विरासत पर अब 120 वंशजों के बीच लड़ाईमुख्य खबरें