content-cover-image

इतिहास को अंग्रेजों ने तोड़ा-मरोड़ा- Naidu

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

इतिहास को अंग्रेजों ने तोड़ा-मरोड़ा- Naidu

अंग्रेजी इतिहासकारों ने इतिहास की घटनाओं को अपने मुताबिक लिखा है। उन्होंने 1857 की क्रांति को कभी भी स्वतंत्रता के लिए किया गया पहला संघर्ष नहीं माना। ऐसे में इतिहास को भारतीय संदर्भों और मूल्यों के साथ दोबारा लिखने की जरूरत है। यह बात उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने दिल्ली में तमिल स्टूडेंट्स एसोसिएशन के छात्रों को संबोधित करते हुए कही। इस मौके पर उपराष्ट्रपति नायडू ने इतिहासकारों से नए सिरे से भारतीय संदर्भों—मूल्यों के मुताबिक इतिहास लिखने का आह्वान किया। उन्होंने सोमवार को कहा कि ब्रिटिश इतिहासकारों ने 1857 को महज एक ‘सिपाही विद्रोह' लिखा है। नायडू ने कहा कि भारत के शोषण से अंग्रेजों के अपने हित जुड़े हुए थे और इसमें इतिहास उनके लिए एक मददगार उपकरण की तरह बन गया। देश की शिक्षा प्रणाली से भारतीय संस्कृति और परंपरा झलकनी चाहिए। हमारे देश में 19 हजार से अधिक भाषाएं मातृभाषा के तौर पर बोली जाती हैं। हमें इस समृद्ध भाषा विरासत को सहेजने की जरूरत है।

Show more
content-cover-image
इतिहास को अंग्रेजों ने तोड़ा-मरोड़ा- Naidu मुख्य खबरें