content-cover-image

Pollution Spl: Delhi की हवा, क्या करें, क्या ना करें ?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Pollution Spl: Delhi की हवा, क्या करें, क्या ना करें ?

आज के समय में प्रदुषण से सिर्फ एक राज्य ही नहीं बल्कि आधा देश परेशान है| Delhi NCR , उत्तरप्रदेश , पंजाब ,पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और बिहार समेत तकरिबान आधे हिन्दुस्तान की आबू हवा प्रदूषित, दमघोटू और जहरीली हो गई है | दिल्ली एन सी आर में तो प्रदुषण अपने खतरनाक अस्तर को पार करते हुवे कई गुना आगे चला गया है| आज की सुबह एक बार फिर दिल्ली धुंध की चादर में लिपटी नजर आई| मामले की गंभीरता को देखते हुवे प्रधानमन्त्री कार्यालय यानी PMO ने आपातकालीन बैठक की और अब वो खुद प्रदुषण के बढ़ते स्तर पर चौबीस घंटे नजर रखेगा| केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक़ देश के पांच सबसे अधिक प्रदूषित शहरों में नोएडा तीसरे स्थान पर रहा| दिल्ली में पिछले तीन साल में हवा सबसे ज्यादा प्रदूषित दर्ज की गई | इस बीच ऐसे बदतर हालत को देखते हुवे दिल्ली, गाज़ियाबाद और गौतमबुद्ध नगर में 5 नवम्बर तक स्कूलों को बंद रखने के आदेश दिए गए है| दिल्ली में हेल्थ इमरजेंसी लागू है लेकिन हालात दिन गुजरने के साथ और बदतर होते जा रहे हैं। प्रदूषित हवा में सांस लेने से खांसी, जुकाम, आखों में जलन, फेफड़े में इंफेक्शन, सासं की बीमारी, त्वचा संबधी परेशानियां, हृदय रोग और बालों के झड़ने जैसी समस्याएं हो सकती हैं| इतना ही नहीं प्रदूषित हवा में सांस लेने से दमा के रोगियों को अटैक पड़ने की संभावना भी बहुत ज्यादा होती है| ऐसे में सवाल यह उठता है कि हम इन सब समस्याओं से कैसे बचे .......??? प्रदूषित हवा से ऐसे करें बचाव:- .जब भी आपके शहर में प्रदूषण स्तर 1000 हो तो इस स्तर पर आप अपने घर से बाहर बिल्कुल भी ना निकलें, घर पर ही रहें| .और अगर कभी किसी कारण बस घर से बाहर निकलना पड़े तो चेहरे पर मास्क जरूर लगाएं. ऐसे मास्क ले जिसकी रेटिंग N95 या N99 हो और वह आपको सही से फिट आए। वही बच्चों के लिए छोटे साइज के मास्क ले। . बाहर से घर आने के बाद गुनगुने पानी से मुंह, आंखें और नाक साफ करें. बाहर से आने के बाद भाप भी ले सकते हैं| .सांसों से शरीर में पहुंचे जहर को बाहर निकालने के लिए पानी बहुत जरूरी है| इसलिए पानी पीना नहीं भूलें| दिन में तकरीबन 4 लीटर तक पानी पिएं| घर से बाहर निकलते वक्त भी पानी पिएं| इससे शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई सही बनी रहेगी और वातावरण में मौजूद जहरीली गैसें अगर ब्लड तक पहुंच भी जाएंगी तो कम नुकसान पहुंचाएंगी| .खाने में जितना हो सके विटामिन-सी, ओमेगा-3 को प्रयोग में लाएं| शहद, लहसुन, अदरक का खाने में ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें| खांसी, जुकाम की स्थिति में शहद और अदरक के रस का सेवन करें| .कफ की दिक्कत है तो शहद में काली मिर्च मिलाकर लें| वहीं, लहसुन में एंटीबॉयटिक तत्व होते हैं जो प्रदूषण से लड़ने की क्षमता बढ़ाते हैं| .अस्थमा के मरीज हैं तो दवाइयां हमेशा साथ रखें| गर्भवती महिलाएं घर में रहने के दौरान मास्क पहनें| .घर पर अस्थमा के मरीज अधिक हों तो एयर प्यूरीफायर लगवाएं| .सुबह के वक्त प्रदूषण का स्तर ज्यादा होता है इसलिए मॉर्निंग वॉक पर नहीं जाएं| धूप निकलने के बाद ही बाहर ही निकलें| .अपने घर और आस-पास की जगहों पर ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएं| ये हवा को प्यूरीफाई करने का काम करते हैं| जिससे आप ताजी हवा में सांस ले पाएंगे|

Show more
content-cover-image
Pollution Spl: Delhi की हवा, क्या करें, क्या ना करें ?मुख्य खबरें