content-cover-image

Weekend Inspiration: Nawazuddin का फर्श से अर्श तक का सफ़र

Let's Get Inspired

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Weekend Inspiration: Nawazuddin का फर्श से अर्श तक का सफ़र

जब भी हम बुरे वक्त से गुजर रहे होते है हमसे कहा जाता है दोस्त सब्र करो ये बुरा वक्त बीत जाएगा। वैसे तो हर बुरा वक्त गुजर जाता है पर उससे पूछिये जिस पर वो बुरा वक्त गुजर रहा होता है. ये बात भी सही है की आगे बढ़ने के लिए बीते हुए कल को पीछे छोड़ना पड़ता है लेकिन ये भी सच है की उस बीते हुए कल की यादें उन दिनों देखे गए सपनो को हमे नही भूलना चाहिए. वो सपने और यादे ही है जो आपका आने वाला कल सवार सकते है। आज की कहानी भी कुछ ऐसी ही है और ऐसे शख्स की है जिसने 12 साल लंबी जद्दोजहद के बाद कामयाबी हासिल की लेकिन जब हम उनके बीते हुए कल को देखते है तो लगता है उन्होंने अपने देखे हुए सपने को पूरा करने के लिए वो तमाम कोशिश की जो उन्हें अपने सपने के और करीब ले जाती है । हम बात कर रहे है नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की जो अपने असल जीवन में कभी कैमिस्ट बने तो कभी वॉच मैन । नो भाई बहन के बीच पले बड़े नवाज़ यूपी के एक गांव बूधाना से है. स्कूल में साइंस की पढ़ाई करने के बाद उन्हें बड़ोदा की एक कंपनी में चीफ कैमिस्ट की नोकरी मिल गई। लगभग 1 साल वहा नोकरी करने के बाद नवाज़ को वहा कुछ कमी महसूस हुई उन्हें लगा ये काम उनके लिए नही है।

Show more
content-cover-image
Weekend Inspiration: Nawazuddin का फर्श से अर्श तक का सफ़र Let's Get Inspired