content-cover-image

Ayodhya Case: मंदिर निर्माण के लिए पुराने तीन ट्रस्ट के बीच खींचतान शुरू

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Ayodhya Case: मंदिर निर्माण के लिए पुराने तीन ट्रस्ट के बीच खींचतान शुरू

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को नया ट्रस्ट बनाकर रामलला विराजमान का मंदिर बनाने का आदेश दिया है। इसे लेकर स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गंभीर हैं और उनकी इच्छा के अनुरूप ट्रस्ट के गठन की तैयारी भी चल रही है। इसके बावजूद यहां राममंदिर निर्माण के लिए तीन पुराने ट्रस्टों के बीच अपने-अपने दावे को लेकर खींचतान शुरू हो गई है। विश्व हिंदू परिषद कह रहा है कि श्रीराम जन्मभूमि न्यास को मंदिर बनाने का अधिकार है, तो स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद रामालय ट्रस्ट खुद का संवैधानिक अधिकार जता रहे हैं। जानकीघाट बड़ा स्थान के महंत बतौर राष्ट्रीय अध्यक्ष, श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण न्यास को सरकार के ट्रस्ट में शामिल करने की बात कह रहे हैं। बता दें कि यह विवाद अदालत में होने के बावजूद विराजमान रामलला का भव्य मंदिर बनाने के लिए तीन ट्रस्ट सक्रिय थे। सबसे पुराना साल 1985 में बना ट्रस्ट विश्व हिंदू परिषद का श्रीराम जन्मभूमि न्यास है, दूसरा विवादित ढांचा गिराए जाने के बाद प्रधानमंत्री पीवी नरसिंहराव की पहल पर बना रामालय है। तीसरा ट्रस्ट जानकीघाट बड़ा स्थान के महंत जन्मेजय शरण की अगुवाई में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण न्यास भी इन्हीं दोनों ट्रस्टों से इतर दावेदारी करता है।

Show more
content-cover-image
Ayodhya Case: मंदिर निर्माण के लिए पुराने तीन ट्रस्ट के बीच खींचतान शुरूमुख्य खबरें