content-cover-image

Fake News Buster: भ्रामक है Ambani का राम मंदिर के लिए दान देने की बात

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Fake News Buster: भ्रामक है Ambani का राम मंदिर के लिए दान देने की बात

भ्रामक खबरों और झूठे viral posts और messages का पर्दाफाश करने की खास मुहिम के तहत हम आपके सामने लेकर आ गए हैं social media पर फ़ैल रही एक और ख़बर की सच्चाई । दरअसल, इस बार उद्योगपति मुकेश अंबानी की यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ एक तस्वीर वायरल की जा रही है। इसके साथ लिखा है और दावा किया जा रहा है कि 'अंबानी परिवार ने राम मंदिर निर्माण हेतू 500 करोड़ रुपए दिए ....जय श्रीराम'। योगी आदित्यनाथ और मुकेश अंबानी की यह फोटो कई यूजर्स सही मानकर फेसबुक पर share कर रहे हैं। क्या करें बेचारे , अपने परिवारजनों और दोस्तों से ज़्यादा भरोसा तो इन लोगों को social media पर हो रखा है। लेकिन गलती इनकी भी नहीं, कमबख्त ये दुनिया है भी नहीं भरोसे लायक ! कुछ यूजर्स ने तो भावुक होकर अंबानी परिवार की फोटो ही इस कैप्शन के साथ शेयर कर डाली है। तो कुछ भ्रम फ़ैलाने के शौकीन Facebook pages बोल रहे हैं कि 'तिरूपति बालाजी मंदिर भी राम मंदिर के निर्माण के लिए एक अरब रुपए देगा'। अरे भैया संभल के.. कहीं बालाजी मंदिरवालों को ये सुनकर सदमा ना लग जाए । देख-भाल के post करो , ऐसे किसी की सेहत के साथ खेलना ठीक बात तो नहीं। वैसे इस पोस्ट की सच्चाई जानने के लिए हमें ज़्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी , गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च से पता चला कि मुकेश अंबानी और योगी आदित्यनाथ की जो तस्वीर वायरल की जा रही है, वो 2017 की है। दैनिक जागरण ने ये फोटो 23 दिसंबर 2017 को एक आर्टिकल में प्रकाशित किया था। UP में होने वाली इन्वेस्टर्स समिट के पहले मुंबई में योगी आदित्यनाथ और मुकेश अंबानी की मुलाकात हुई थी, यह तभी की फोटो है। टाइम्स ऑफ इंडिया ने भी उसी दिन इस फोटो को प्रकाशित करते हुए आर्टिकल लिखा था। पड़ताल से स्पष्ट होता है कि जो फोटो प्रचारित की जा रही है, वो बेशक 2017 की ही है। इसके साथ में लिखी गई जानकारी का भी कोई source नहीं दिया गया है। रिलायंस या UP सरकार ने भी ऐसी कोई जानकारी नहीं दी । न ही किसी मीडिया आउटलेट्स में ये खबर है। इससे साफ़ होता है कि सोशल मीडिया का ये दावा भ्रामक है। और बात दें, राम मंदिर निर्माण के लिए ऐसी ही एक खबर बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार को लेकर भी वायरल की जा रही है, जो गलत है। तो अगली बार जब भी social media पर surfing के लिए जाएँ , तो अपना दिमाग साथ लेकर बैठिएगा। ये हमारी आपको राय नहीं , बल्कि आपसे विनति है। धन्यवाद ।

Show more
content-cover-image
Fake News Buster: भ्रामक है Ambani का राम मंदिर के लिए दान देने की बातमुख्य खबरें