content-cover-image

प्याज़ की महंगाई को लेकर राजनीति हुई तेज़

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

प्याज़ की महंगाई को लेकर राजनीति हुई तेज़

केंद्र सरकार के तमाम उपायों के बावजूद प्याज की महंगाई थम नहीं रही है. वहीं प्याज की महंगाई को लेकर देशभर में राजनीतिक वातारवरण गर्म हो गया है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्याज सेब से दोगुने दाम में बिक रहा है. सेब जहां 40 से 60 रुपये किलो मिल रहा है वहीं प्याज की कीमत 80 से 100 रुपये हो गया है. दिल्ली के आजादपुर मंडी में पिछले साल 28 नवंबर 2018 में प्याज का थोक भाव जहां 2.50-15 रुपये प्रति किलो था वहां गुरुवार को 29-57.50 रुपये प्रति किलो था. वहीं दिल्ली-एनसीआर के बाजारों में खुदरा प्याज 70-100 रुपये प्रति किलो बिक रहा था. मालूम हो कि 2018-19 में देश में प्याज का उत्पादन 234.85 लाख टन था जबकि इससे एक साल पहले 2017-18 में 232.62 लाख टन. इस प्रकार पिछले साल से उत्पादन ज्यादा होने के बावजूद इस साल आवक का टोटा होने के कारण बीते तीन महीने से प्याज की कीमत आसमान पर है. कृषि विशेषज्ञ विजय सरदाना ने बताया कि देश में प्याज के भंडारण की समुचित व्यवस्था नहीं होने से बीते सीजन का प्याज खराब हो गया, वहीं मौसम की मार से नई फसल खेतों में बर्बाद हो गई, जिसके कारण प्याज का टोटा बना हुआ है.

Show more
content-cover-image
प्याज़ की महंगाई को लेकर राजनीति हुई तेज़मुख्य खबरें