content-cover-image

J-K: 370 के खात्मे से आई घुसपैठ में कमी

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

J-K: 370 के खात्मे से आई घुसपैठ में कमी

जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 खत्म किए जाने के बाद घुसपैठियों यानी आतंकवादियों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। खासतौर पर सीमा पार से घुसपैठ कर जम्मू कश्मीर में आने वाले आतंकी या पहले से घाटी में मौजूद आतंकियों को कोई मददगार नहीं मिल पा रहा है। क्योंकि बहुत से ऐसे संदिग्ध व्यक्ति, जिन पर आतंकियों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर से मदद देने का आरोप है, वे अब जेल में हैं या दूसरी जगहों पर नजरबंद हैं। सुरक्षा बलों की बड़े पैमाने पर तैनाती ने भी आतंकियों के मददगारों को कदम पीछे रखने के लिए मजबूर कर दिया है। यही वजह है कि इस साल जम्मू कश्मीर में वास्तविक घुसपैठ के मामलों की संख्या कम हो रही है। पिछले साल वास्तविक घुसपैठ के 143 मामले सामने आए थे, जबकि इस बार अक्तूबर माह तक इनकी संख्या 114 है। अधिकारी बताते हैं कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद आतंकियों के मददगारों पर जमकर कार्रवाई हुई है। नए एंटी टेरर कानून की मदद से एनआईए ने भी अब ऐसे लोगों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। ईडी ने ऐसे कई लोगों की संपत्तियां जब्त की हैं, जिन पर आतंकियों को मदद देने का आरोप है। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल और एनआईए प्रमुख वाईसी मोदी का कहना था कि आतंकवाद को पूरी तरह खत्म करने के लिए जरूरी है कि पहले उनकी सप्लाई चेन तोड़ी जाए।

Show more
content-cover-image
J-K: 370 के खात्मे से आई घुसपैठ में कमीमुख्य खबरें