content-cover-image

दिल्ली अग्निकांड: बिहार के गांवों में पसरा मातम, 3 दिन से शव का इंतजार

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

दिल्ली अग्निकांड: बिहार के गांवों में पसरा मातम, 3 दिन से शव का इंतजार

बिहार के समस्तीपुर जिले के सिंधिया प्रखंड के हरपुर, ब्रह्मपुरा और बेलाही गांवों में मंगलवार को भी कई घरों में चूल्हे नहीं जले हैं। उन्हें अब अपने परिजनों के पार्थिव शरीर का इंतजार है, जिन्हें कम से कम अंतिम समय पर निहार सकें। इन गांवों में महिलाओं का रह-रहकर चीत्कार अब भी सुनाई दे रहा है। हरपुर गांव के निवासी मोहम्मद उल्फत को तो अब कोई ढांढस भी नहीं बंधा पा रहा है। उनकी आंखों के आंसू भी तीन दिनों में सूख गए हैं। आखिर उसने दो जवान बेटे खो दिए हैं। दिल दहला देने वाले इस हादसे में समस्तीपुर के 12, सहरसा के नौ, सीतामढ़ी के छह, मुजफ्फरपुर के तीन, दरभंगा के दो और बेगूसराय, मधेपुरा, अररिया तथा मधुबनी के एक-एक लोगों की मौत हुई है। अश्रुपूर्ण नेत्रों से गांव के लोग अपने लाल के पार्थिव शरीर का इंतजार कर रहे हैं। गांव के कई घरों के लोग दिल्ली चले गए हैं। श्रम संसाधन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि विभाग के स्थानीय अधिकारियों को संबंधित जिले में रहने को निर्देश दिया गया है। शव आने पर उसका अंतिम संस्कार करने के लिए श्रम अधीक्षक व्यवस्था करेंगे। बिहार सरकार ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये का अनुग्रह अनुदान देने की घोषणा की है।

Show more

content-cover-image
दिल्ली अग्निकांड: बिहार के गांवों में पसरा मातम, 3 दिन से शव का इंतजारमुख्य खबरें