content-cover-image

मानवाधिकारों का सम्मान करते हैं भारतीय सशस्त्र बल: Army Chief General

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

मानवाधिकारों का सम्मान करते हैं भारतीय सशस्त्र बल: Army Chief General

थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय सशस्त्र बल बेहद अनुशासित है. इतना ही नहीं वे राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार कानूनों का भी बेहद सम्मान करते हैं. जनरल रावत ने कहा कि भारतीय सशस्त्र बल न सिर्फ हमारे अपने लोगों के मानवाधिकारों के संरक्षण को सुनिश्चित करते हैं बल्कि युद्धबंदियों के साथ भी जेनेवा समझौते के मुताबिक ही व्यवहार करते हैं. जनरल बिपिन रावत नई दिल्ली में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने मानवाधिकार भवन में “युद्ध के समय और युद्धबंदियों के मानवाधिकारों का संरक्षण” विषय पर आयोग के इंटर्न और सीनियर अधिकारियों को संबोधित किया. सेना प्रमुख ने कहा कि भारतीय सशस्त्र बलों का मुख्य स्वभाव है “इंसानियत” और “शराफत”. वे बेहद धर्मनिरपेक्ष हैं. उन्होंने कहा कि अब प्रौद्योगिकी के आने के बाद युद्ध की बदलती रणनीति सेना के लिए एक चुनौती है. जनरल रावत ने कहा कि सेना के मुख्यालय ने 1993 में एक मानवाधिकार सेल का गठन किया था, जिसे अब अपर महानिदेशक के नेतृत्व में निदेशालय के स्तर पर अपग्रेड किया जा रहा है. इसमें सशस्त्र बलों के खिलाफ मानवाधिकारों के उल्लंघन की शिकायतों का समाधान करने और संबंधित पूछताछ की सुविधा के लिए पुलिसकर्मी तैनात होंगे.

Show more
content-cover-image
मानवाधिकारों का सम्मान करते हैं भारतीय सशस्त्र बल: Army Chief General मुख्य खबरें