content-cover-image

निर्भया रेप केस: आरोपी Akshay के वकील फ़ैसले के ख़िलाफ़ फाइल करेंगे 'Curative Petition'

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

निर्भया रेप केस: आरोपी Akshay के वकील फ़ैसले के ख़िलाफ़ फाइल करेंगे 'Curative Petition'

निर्भया रेप केस में दिल्ली की कोर्ट ने चारों दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी कर दिया है। 22 जनवरी को सुबह 7 बजे दोषियों को दिल्ली की तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी। इस मामले में दोषी अक्षय सिंह के वकील एपी सिंह ने कोर्ट के फैसले पर कहा कि वह इसके खिलाफ क्यूरेटिव पिटिशन फाइल करेंगे। एपी सिंह ने कहा कि हम एक-दो दिन में SC में क्यूरेटिव पिटीशन दायर करेंगे। सुप्रीम कोर्ट के 5 वरिष्ठ जज इसकी सुनवाई करेंगे। इस मामले में शुरू से ही मीडिया, जनता और राजनीतिक दबाव रहा है। इस मामले में निष्पक्ष जांच नहीं हो सकी। एडिशनल सेशन जज सतीश कुमार अरोड़ा ने इस मामले में फैसला सुनाया है। निर्भया की मां ने दोषियों की फांसी की सजा की तिथि मुकर्रर किए जाने के बाद कहा कि यह आदेश (मौत की सजा पर अमल के लिए) कानून में महिलाओं के विश्वास को बहाल करेगा। बता दे कि Curative Petition शब्द की उत्पति Cure शब्द से हुई है। इसका मतलब होता है उपचार करना। क्यूरेटिव पिटीशन तब दाखिल किया जाता है जब किसी मामले में सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी जाती है। ऐसे में क्यूरेटिव पिटीशन अंतिम मौका होता है। जिसके ज़रिए वह अपने लिए चीफ जस्टिस या राष्ट्रपति के पास गुहार लगा सकता है। क्यूरेटिव पिटीशन किसी भी मामले में अभियोग की अंतिम कड़ी होता है, इसमें फैसला आने के बाद अपील करने वाले व्यक्ति के लिए आगे के सभी रास्ते बंद हो जाते हैं।

Show more
content-cover-image
निर्भया रेप केस: आरोपी Akshay के वकील फ़ैसले के ख़िलाफ़ फाइल करेंगे 'Curative Petition' मुख्य खबरें