content-cover-image

दोनों इंजनों में Bio Jet fuel के साथ पहली बार उड़ा वायुसेना का विमान

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

दोनों इंजनों में Bio Jet fuel के साथ पहली बार उड़ा वायुसेना का विमान

भारतीय वायुसेना के खाते में एक नई उपलब्धि दर्ज हुई है. वायुसेना के विमान AN-32 ने पहली बार दोनों इंजनों में बायो जेट फ्यूल (जैव ईंधन) के साथ लेह से उड़ान भरी. लेह के कुशोक बाकुला रिंपोची हवाई अड्डे से AN-32 एयरक्राफ्ट ने उड़ान भरी. पहली बार इसके दोनों इंजनों में 10 फीसदी बायो जेट फ्यूल के मिश्रण का इस्तेमाल किया गया. यह पहली बार है जब विमान के दोनों इंजनों में भारतीय बायो जेट फ्यूल के मिश्रण का इस्तेमाल किया गया. लेह में इस ऑपरेशनल उड़ान से पहले चंडीगढ़ एयर बेस पर विमान का परीक्षण किया गया था.बायो जेट फ्यूल के प्रदर्शन का मूल्यांकन परिचालन की दृष्टि से काफी अहम है. यह परीक्षण एयरक्राफ्ट एंड सिस्टम टेस्टिंग स्टैबलिशमेंट, बेंगलुरु के टेस्ट पायलटों की ​टीम और ऑपरेशनल स्क्वाड्रन के पायलटों ने मिलकर किया. यह सफल परीक्षण यह भी दर्शाता है कि भारतीय वायुसेना स्वदेशीकरण के साथ नई तकनीक को अपनाने में सक्षम है. इस ईंधन का उत्पादन करने की तकनीक 2013 में CSIR-IIP द्वारा विकसित की गई थी, लेकिन देश में परीक्षण सुविधाओं की कमी के कारण कमर्शियल उपयोग के लिए इसका परीक्षण नहीं किया जा सका था. 2018 में वायुसेना ने इस परीक्षण के लिए परियोजना तैयार की और परीक्षण की पूरी श्रृंखला को अंजाम तक पहुंचाने की योजना पर काम करना शुरू किया.

Show more
content-cover-image
दोनों इंजनों में Bio Jet fuel के साथ पहली बार उड़ा वायुसेना का विमानमुख्य खबरें