content-cover-image

विश्व कैंसर दिवस: हो सकता है खतरनाक, कतई न करें नज़रअंदाज !

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

विश्व कैंसर दिवस: हो सकता है खतरनाक, कतई न करें नज़रअंदाज !

पूरी दुनिया में 4 फरवरी को वर्ल्ड कैंसर डे मनाया जाता है. विश्व कैंसर दिवस 2020 की थीम 'आई एम एंड आई विल (I Am and I Will)' रखी गई है. कैंसर एक ऐसी जानलेवा और गंभीर बिमारी है जिससे सबसे ज्यादा लोगों की मृत्यु होती है. विश्व में इस बीमारी की चपेट में सबसे अधिक मरीज़ हैं. देखा जाए तो पूरे विश्व में यह बिमारी फैल चुकी है. इस बिमारी को डिटेक्ट करने, इसकी रोकथाम करने और जागरूकता फैलाने हेतु हर वर्ष अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विश्व कैंसर दिवस मनाया जाता है.. इस दिन के इतिहास में जाएँ तो जानना ज़रूरी है कि सबसे पहले विश्व कैंसर दिवस वर्ष 1993 में जिनेवा, स्विट्ज़रलैंड में यूनियन फॉर इंटरनेशनल कैंसर कंट्रोल यानी UICC के द्वारा मनाया गया. कुछ अन्य प्रमुख कैंसर सोसाइटी के सपोर्ट, रिसर्च इंस्टिट्यूट, ट्रीटमेंट सेंटर और पेशेंट ग्रुप की सहायता द्वारा इसका आयोजन किया गया था. उस समय रिपोर्ट के अनुसार लगभग 12.7 मिलियन लोग कैंसर से पीड़ित थे और हर साल तकरीबन 7 मिलियन लोग कैंसर के कारण अपनी जान गंवा रहे थे. इस दिवस को मनाने का प्राथमिक उद्देश्य सन 2020 तक कैंसर पीड़ित व्यक्तियों की संख्या में कमी करना और इसके कारण होने वाली मृत्यु दर में कमी लाना हैं. साथ ही लोगों में कैंसर के लक्षणों को पहचान पाने के लिए प्रयास करना, उनमें जागरूकता बढ़ाना, लोगों को शिक्षित करना, साथ ही सरकारों और गेर-सरकारी संघठनों को दुनिया भर में इस बिमारी के खिलाफ लड़ने के लिए तैयार करना है. इतना ही नहीं इस दिवस को मनाने का लक्ष्य यह हैं कि हम कैंसर के संबंध में फैली गलत धारणाओं को कम कर सकें और इससे संबंधित सही जानकारी को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचा सकें. कैंसर पीड़ित मरीजों को मोटीवेट करने के लिए एक बहुत अच्छा प्रयास था - नो हेयर सेल्फी (No Hair Selfie). यह अभियान वैश्विक स्तर पर चलाया गया था, जिसमें लोगों ने अपने बाल कटवाए और सोशल मिडिया पर इसे शेयर किया, ताकि कैंसर पीड़ित लोग जो इलाज के दौरान साइड इफ़ेक्ट के कारण बाल गंवा देते हैं वे अपने आपको दूसरों से अलग न समझें और उनका मनोबल भी बढ़े. इतना प्रमुख होने के बाद भी क्या आप जानते हैं कि कैंसर आखिर है क्या? हम बताते हैं...जब शरीर की कोशिकाओं के समूह अनियंत्रित तरीके से बढने लगते है तो ये कैंसर का रूप धारण कर लेते हैं. यह बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है. और कैंसर 100 से अधिक तरीके का होता है. तो ऐसा कहना गलत नहीं होगा कि जागरूकता ही कैंसर जैसी गंभीर बिमारी से बचने का सबसे बड़ा बचाव है और साथ ही कैंसर से बचने के लिए अपनी जीवनशैली को नियंत्रित करना और खानपान का विशेष ध्यान रखना भी आवश्यक है.

Show more
content-cover-image
विश्व कैंसर दिवस: हो सकता है खतरनाक, कतई न करें नज़रअंदाज !मुख्य खबरें