content-cover-image

BMC का शिक्षा बजट: कई स्कीमें, लेकिन बड़ा ठोस कदम नहीं

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

BMC का शिक्षा बजट: कई स्कीमें, लेकिन बड़ा ठोस कदम नहीं

मुंबई महानगरपालिका के शिक्षा बजट में इस बार कई नई योजनाएं शुरू हो रही हैं. कई छोटी योजनाओं का ऐलान किया गया है. लेकिन बड़ी ठोस योजना का आभाव है. हालांकि इस बार के बजट में पिछली बार से 211 करोड़ रुपये अधिक के प्रावधान किए गए हैं, लेकिन इसका ज्यादातर हिस्सा प्रशासनिक काम में खर्च होगा. कुछ नई योजनाओं के तहत प्रयोग के तौर पर वुलेन मिल महानगरपालिका में ICSE स्कूल की शुरुआत की जाएगी. जबकि पूनम नगर में CBSE स्कूल की शुरुआत की जाएगी. स्कूल में वॉटर बेल योजना शुरू की जाएगी, जिसके आधार पर स्कूल बेल के जरिये छात्रों को पानी पीने के बारे में याद दिलाया जाएगा. अमूमन बच्चे लंबे वक्त तक क्लास में बैठे रहते हैं और पानी नहीं पीते हैं. इससे अक्सर उनमें डीहाइड्रेशन की शिकायत देखी गई है. दिव्यांगों को स्कूल आने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए 8 करोड़ रुपयों का प्रावधान है. दिव्यांग छात्रों को हर रोज स्कूल आने पर 10 रुपये और उनके माता पिता को 10 रुपये दिया जाएगा. इसके अलावा 80 फीसदी से ज्यादा हाजिरी पर 200 रुपये अलग से दिए जाएंगे. साल 2020 में 4963 छात्रों को यह रकम दी जाएगी. विशेषज्ञों का कहना है कि मुंबई महानगरपालिका के स्कूलों की हालत और बेहतर बनाने की जरूरत है. महानगरपालिका को इन स्कूलों में एजुकेशन और बेहतर करने के लिए ठोस कदम उठाने की जरूरत है, जिससे आमूल-चूल परिवर्तन हो. इन छोटे कदमों से एजुकेशन क्वालिटी नहीं बढ़ेगी.

Show more
content-cover-image
BMC का शिक्षा बजट: कई स्कीमें, लेकिन बड़ा ठोस कदम नहींमुख्य खबरें