content-cover-image

रेलवे का फ़ैसला, संस्कृत के कारण स्टेशनों से नहीं हटाई जाएगी उर्दू

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

रेलवे का फ़ैसला, संस्कृत के कारण स्टेशनों से नहीं हटाई जाएगी उर्दू

रेलवे स्टेशन से उर्दू हटाए जाने के मामले पर भारतीय रेलवे की ओर से सफाई आई है. रेलवे का कहना है कि न तो किसी स्टेशन से उर्दू भाषा को हटाया गया है और न ही फिलहाल ऐसा करने का कोई इरादा है. रेलवे की ओर से कहा गया कि संस्कृत को अतिरिक्त भाषाओं के अलावा रेल स्टेशनों पर साइन-बोर्ड में मौजूदा भाषाओं में इस्तेमाल किया जा सकता है. हालांकि इसके कारण उर्दू भाषा को रिप्लेस नहीं किया जाएगा. पिछले महीने ऐसी खबर आई थी कि उत्तराखंड में अब रेलवे स्टेशनों पर एक बदलाव किया जा रहा है. उत्तराखंड के प्लेटफॉर्म पर लगीं साइन बोर्ड्स से अब उर्दू भाषा की विदाई होगी. और उर्दू की जगह संस्कृत भाषा का उपयोग करने की तैयारी है. तब कहा गया कि यह कदम रेलवे की नियमावली के अनुसार उठाया जा रहा है. इस संबंध में उत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी दीपक कुमार ने जानकारी भी दी थी कि रेलवे की नियमावली के अनुसार प्लेटफॉर्म के साइनबोर्ड पर रेलवे स्टेशन का नाम हिंदी और अंग्रेजी के बाद संबंधित राज्य की दूसरी आधिकारिक भाषा में लिखा जाना चाहिए.

Show more
content-cover-image
रेलवे का फ़ैसला, संस्कृत के कारण स्टेशनों से नहीं हटाई जाएगी उर्दूमुख्य खबरें