content-cover-image

Mehbooba की बेटी का दावा- चपाती में छिपाकर भेजती थी चिट्ठी

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Mehbooba की बेटी का दावा- चपाती में छिपाकर भेजती थी चिट्ठी

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की बेटी इल्तिजा ने नजरबंद किए गए नेताओं पर लगाई गई सख्त पाबंदियों पर सवाल उठाया है। इल्तिजा ने शुक्रवार को ट्वीट कर दावा किया कि उन्हें अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद नजरबंद की गई उनकी मां से बात तक नहीं करने दी गई। अपनी बात पहुंचाने के लिए उन्हें चपाती में छिपाकर चिट्‌ठी भेजनी पड़ती थी। इस बीच, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को रिहा किया जाना चाहिए। 5 अगस्त, 2019 को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद करीब 1000 नेताओं को हिरासत में लिया गया था। इनमें से कई नेताओं को चरणबद्ध तरीके से रिहा किया जा चुका है। फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत कई नेता अभी भी नजरबंद हैं। गुरुवार शाम को उमर और महबूबा पर पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत मामला दर्ज किया गया था। इल्तिजा ने ट्वीट किया कि मां (महबूबा मुफ्ती) को नजरबंद करने के बाद उनके परिवार को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। कई दिनों तक यह पता नहीं चल पाया कि मां कैसी हैं। कुछ दिन बाद उनके लिए भिजवाए टिफिन में मुझे उनके हाथ का लिखा एक नोट मिला था। इसमें उन्होंने लिखा था, ‘‘ उन लोगों (सरकार) ने मुझसे अंडरटेकिंग ली है कि मैं बातचीत के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं करूंगी। मेरी तरफ से अगर कोई दूसरा ऐसा करता है, तो उस पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज होगा। तुम्हें बहुत याद करती हूं, ढेर सारा प्यार।’’

Show more

content-cover-image
Mehbooba की बेटी का दावा- चपाती में छिपाकर भेजती थी चिट्ठी मुख्य खबरें