content-cover-image

'पैन, बैंक-भूमि से जुड़े दस्तावेजों से नहीं साबित होती है नागरिकता'

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

'पैन, बैंक-भूमि से जुड़े दस्तावेजों से नहीं साबित होती है नागरिकता'

बैंक खातों का विवरण, पैन कार्ड और भूमि राजस्व रसीद जैसे दस्तावेजों का इस्तेमाल नागरिकता साबित करने के लिए नहीं किया जा सकता है. गुवाहटी हाई कोर्ट ने विदेशी न्यायाधिकरण के फैसले के खिलाफ एक महिला की याचिका खारिज करते हुए यह बात कही. न्यायाधिकरण (ट्रिब्यूनल) ने महिला को "विदेशी नागरिक" की श्रेणी में रखा था. हालांकि, भूमि और बैंक खातों से जुड़े दस्तावेजों को प्रशासन के स्वीकार्य दस्तावेजों की सूची में रखा गया है. उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) की अंतिम सूची जारी होने के बाद कम से कम 19 लाख लोग अपनी नागरिकता साबित करने की कोशिश कर रहे हैं. इन मामलों की समीक्षा के लिए पूरे असम में 100 विदेशी न्यायाधिकरण स्थापित किए गए हैं. न्यायाधिकरण द्वारा खारिज मामलों को उच्च न्यायालय और अगर जरूरत पड़े तो सुप्रीम कोर्ट में उठाया जा सकता है. सरकार का कहना है कि किसी भी व्यक्ति को तब तक डिटेंशन सेंटर नहीं भेजा जाएगा जब तक उसके सारे कानूनी विकल्प समाप्त नहीं हो जाते हैं. गुवाहटी हाई कोर्ट के न्यायाधीश मनोजीत भुइयां और न्यायमूर्ति पार्थिव ज्योति सैकिया ने हालिया आदेश में इसी अदालत के 2016 के एक फैसले का उल्लेख किया है. जुबैदा बेगम उर्फ जुबैदा खातून ने विदेशी न्यायाधिकरण के खुद को विदेशी घोषित करने के आदेश को चुनौती देने के लिए उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी.

Show more
content-cover-image
'पैन, बैंक-भूमि से जुड़े दस्तावेजों से नहीं साबित होती है नागरिकता'मुख्य खबरें