content-cover-image

Delhi Violence: पुलिस को फटकारने वाले Justice Muralidhar का ट्रांसफर

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Delhi Violence: पुलिस को फटकारने वाले Justice Muralidhar का ट्रांसफर

हेट स्पीच को लेकर बीजेपी नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने और दिल्ली को दोबारा 1984 के दंगे जैसी स्थिति में नहीं धकेलने देने की टिप्पणी के कुछ घंटे बाद ही जस्टिस एस मुरलीधर का तबादला कर दिया गया है. कॉलेजियम ने दिल्ली हाईकोर्ट से हरियाणा एवं पंजाब हाईकोर्ट तबादले की अनुशंसा बीते 12 फरवरी को कर रखी थी लेकिन बीती रात 26 फरवरी को राष्ट्रपति ने इस बाबत मंजूरी दे दी. बुधवार 26 फरवरी को सुनवाई के बाद जस्टिस एस मुरलीधर अब हर्ष मंदर की ओर से दायर उस याचिका की सुनवाई आगे जारी नहीं रखेंगे, जिसमें भड़काऊ भाषण देने के लिए तीन बीजेपी नेताओँ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की गयी है. कथित तौर पर इन भाषणों ने दिल्ली में जारी हिंसा में अहम भूमिका निभाई. सुनवाई के दौरान जस्टिस मुरलीधर और सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता के बीच तीखे संवाद हुए. हालांकि जस्टिस मुरलीधर और तलवंत सिंह ने गुरुवार 27 फरवरी को दोपहर सवा 2 बजे एक बार फिर सुनवाई हो, इसके लिए इस केस को सूचीबद्ध करने का आदेश दिया है, लेकिन नयी काउज लिस्ट बताती है कि यह मामला दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल के समक्ष सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया है. दिल्ली हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने चेतावनी दी है कि “स्वतंत्र और निष्पक्ष न्याय करने” को लेकर इस तबादले का नकारात्मक असर हाईकोर्ट के न्यायाधीशों पर पड़ेगा. न्यायपालिका को इसका गम्भीर नुकसान उठाना होगा.

Show more
content-cover-image
Delhi Violence: पुलिस को फटकारने वाले Justice Muralidhar का ट्रांसफरमुख्य खबरें