content-cover-image

चिकन हुआ बेहद सस्ता, खपत में भी आई 50% की कमी, जानें क्या है वजह

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

चिकन हुआ बेहद सस्ता, खपत में भी आई 50% की कमी, जानें क्या है वजह

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच देश में चिकन की बिक्री में 50 फीसदी से ज्यादा गिरावट आई है. पिछले एक महीने में इसके दाम 70 फीसदी से ज्यादा गिर गए हैं. गोदरेज एग्रोवेट के एक शीर्ष अधिकारी ने गुरुवार कहा कि सोशल मीडिया पर इस तरह के अफवाह चल रहे हैं कि चिकन से कोरोना वायरस फैल सकता है. इससे बाजार में चिकन के दाम और बिक्री दोनों में गिरावट आई है. उन्होंने कहा कि हालांकि, अगले 2-3 महीनों में यदि अफवाहों पर विराम लगता है तो इसके बाद चिकन की खपत बढ़ जाएगी और फिर देश में चिकन की कमी की स्थिति उत्पन्न होगी. इसकी वजह से कीमतों में भारी वृद्धि हो सकती है. गौरतलब है कि गोदरेज टायसन फूड्स 'रियल गुड चिकन' और 'यम्मीज' ब्रैंड नाम से फ्रेश और फ्रोजेन चिकन बेचता है. यह देश में चिकन की सबसे बड़ी उत्पादक है और इसके बाद वेंकीज तथा सुगुना का स्थान है. हालांकि सरकार ने परामर्श जारी किया है कि कोरोना वायरस चिकन से नहीं फैलता है. राज्य सरकारों से भी अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा गया है. चिकन से कोरोनोवायरस फैलने की व्हॉट्सएप पर फैली अफवाह के कारण पूरा पॉल्ट्री उद्योग और किसान प्रभावित हुए हैं. चिकन का उत्पादन बढ़ गया है, जिसे कम कीमत पर बाजार में खपाया जा रहा है. भारत सरकार के पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह ने हाल में कहा था कि किसी भी मनगढ़ंत सूचनाओं पर ध्यान ना दें क्‍योंकि पोल्ट्री उत्पादों का कोरोना वायरस से कोई भी संबंध नहीं है. ये चिकन पूरी तरह सुरक्षित हैं. लोग निश्चिन्त होकर पोल्ट्री चिकन का उपभोग कर सकते हैं. पशुपालन मंत्रालय ने इस बात की भी पुष्टि कि है कि दुनिया भर में कोरोना वायरस का पोल्ट्री उत्पादों से कोई कनेक्‍शन नहीं पाया गया है और ना ही पोल्ट्री बर्ड या पोल्ट्री उत्पाद से किसी भी व्यक्ति में ये वायरस फैला है. इसके साथ ही मंत्रालय की ओर से उच्च-अधिकारियों को लोगों के लिए पत्र जारी करने को कहा गया है.

Show more
content-cover-image
चिकन हुआ बेहद सस्ता, खपत में भी आई 50% की कमी, जानें क्या है वजहमुख्य खबरें